Friday, 25 December 2020

FAQ’s on Covid Vaccines:

 FAQ’s on Covid Vaccines: 


1. When is the Corona vaccine likely to be available?

Probably the Government will get it by January and the private market by March.


2. Do we all need to take it?

Yes, all should take it.


3. Who will get it first?

It will be prioritised. First frontline workers and first responders like paramedical staff, civil servants, police, army, politicians and their relatives will get it first. People more than 50 years of age and those with co-morbidities like diabetes, HT, transplant and chemotherapy patients will get it next. Then will be healthy adults, teenagers, children and last neonates if at all.


4. How will it be given?

Through public and private centres, by doctors, dentists, nurses and trained

paramedics.


5. What is the recommended dose and schedule?

Two doses given 21 days or 28 days apart depending on vaccine used.


6. What if I take only one dose?

One dose will give you only partial protection of maybe 60-80% and will not last long enough. For complete protection you must take two doses at recommended intervals.


7. What if I forget to take the second dose? Should I take the first again?

Just take the second dose at the earliest. No need to repeat the first dose.


8. Are both doses same?

In most of the vaccines it will be the same dose given twice. However, Sputnik- V vaccine has both doses as different vector viruses, so will be marked as dose 1 and 2. Oxford-AZ vaccine may also come out with first dose as half dose.


9. Do you need to take it even if you had Corona? After how many days of getting cured?

 

Yes. But that will be last in the priority list. You can let others take who probably need more than you. You might need it earlier if you did not develop an antibody response.


10. Can it be administered to an individual who has received plasma as treatment for Covid?

The donor plasma contains anti Covid-19 antibodies and may suppress the immune response to the vaccine. As it is, those who have recovered from Covid-19 may not need the vaccine in the early phases.


11. Can a pregnant lady or a lactating mother take the vaccine?

No company has yet tested the vaccine in pregnancy. CDC has advised against giving the vaccine to pregnant and lactating mothers. UK authorities have advised women not to get pregnant for two months after the shot. Since the vaccines available till now are not live vaccines, it should not cause any problem if given inadvertently.


12. Can a diabetic patient take the vaccine?

Yes, in fact diabetes has been established as a risk factor for severe disease and all diabetic patients must get vaccinated on priority.


13. If offered a choice of vaccines, which one should I take?

All vaccines are offering equal efficacy although local reactions may be different. Take whatever available. Think positive that at least you are being offered a vaccine ahead of others. Indian manufactured vaccines will be more suitable for our population as they are cheaper and can be kept at 2-8 degree Celsius. The mRNA vaccines require a storing temp of -70 (Pfizer) and -20 (Moderna) which may be difficult to maintain in summer months.


14. How many days after getting vaccine, would I develop protection?

Best protection starts 10 days after second dose. Efficacy is around 70-90% against all severity and 100% against hospitalization. Immediate aim is to prevent hospitalisation and mortality.


15. How long will the vaccine provide immunity?

It is a new virus, new technology vaccine, so we don't know. After follow-ups of these vaccinated population and their antibodies for a couple of years, we would be wiser. The need for boosters and when will they be required, will be decided after these follow ups and mathematical modelling.


16. Children of what age can be vaccinated? Is the dose same as adults or lesser dose to be given?

Trials done till now have been for adults above 18 only. Now trials for children above 12 have started. Doses will be decided only after trials are done on younger children and infants.


17. Can it be given to immunocompromised individuals?

The mRNA vaccine and inactivated vaccines are safe. AZ and Sputnik-V adenovirus vector vaccines are also safe as they are nonreplicating viral vector vaccines. Live vaccines and replicating viral vector vaccines will have to be avoided.


18. What are the side effects expected?

The side effects reported by the trial population are mostly mild Covid like symptoms like some fever and fatigue. Local injection site pain and induration is also reported. Reports of transverse myelitis and facial palsy have not been found to be related to the vaccine. Generally, all vaccines are safe. Although these vaccines have been made in record time, the testing methodology and procedures have not been compromised.


19. I am allergic to egg. Can I take the vaccine?

Egg cell lines are not used for production of these vaccines. They can be taken safely even if you are allergic to egg.


20. I heard that it has pig or monkey products? I am a pure Vegetarian.

The new vaccines manufactured these days are devoid of any such products.


21. In the past vaccines have been linked to Autism. What about these?

In 1985 there was a paper linking MMR with autism. Millions of children followed up after that have conclusively proven that there is no relationship between vaccines and autism. All vaccines are extremely safe with minimal temporary side effects.


22. There are messages going around that mRNA from vaccine gets incorporated into the human genome and alter our genetic structure. Is that true?

mRNA vaccine carries a message to the cell to produce spike protein which induces antibody production. It does what it is directed to do. Till date there have been no adverse events reported.


23. What is the interaction of alcohol and Covid vaccine?

Excessive alcohol can reduce the immune responses to vaccines. Since Russians are known for heavy drinking, their government has advised to avoid drinking two weeks prior to first dose and 6 weeks after the second dose. The Sputnik vaccine is given as two doses 21 days apart. Occasional glass of wine or beer will not interfere with the immune response.


24. Soon the virus will mutate and we will need another vaccine. Should we not wait?

Till now the virus has not shown tendency to mutate like the Flu virus. Moreover, the vaccines being developed have taken this into consideration and should still work.


25. What if I do not want to take the vaccine? Will it be made mandatory?

In majority of countries, it will not be mandatory. You have to choose between the new viral disease with no specific treatment and a new vaccine. Choice is yours. As initially there will be a huge demand supply gap, by not taking a vaccine you can help others.


26. If I fall in the category of priority list by being a senior citizen or with a co-morbid condition, how do I contact the appropriate vaccination authority?

Soon there will be a website and an app ‘CoWIN’ where you will be able to register with your relevant details.


27. _What is CoWIN?

It is the world’s first, digital, end to end, vaccine distribution and management system. It includes beneficiary registration, authentication, document verification, session allocation, AEFI reporting and certificate generation. Once the vaccine is available, it will generate a SMS informing the beneficiary. The vaccine centre itself will be managed by five people and will give maximum 100 vaccines per day. The vaccine recipient has to wait for 30 minutes before leaving the centre post-vaccination.


28. What are the different types of Corona vaccines likely to be available for use in near future?

 Covishield , by Serum Institute of India (Oxford AstraZeneca) is a non- replicating viral vector vaccine. These are viruses that have been modified to act as delivery systems that carry the viral antigens to our immune cells. Chimpanzee adenovirus is the vector used to deliver the corona virus antigen in the SII vaccine and human adenoviruses in Sputnik V (Russian vaccine, made in India by Dr Reddy’s lab).

 Covaxin , by Bharat Biotech India Ltd is a whole cell inactivated vaccine. Most of the current vaccines being used in Pediatric immunization, are made by this technology. Since these are killed viruses, they produce immunity, but cannot cause the disease.

 Pfizer and Moderna vaccines from USA, consist of messenger RNA molecules. The carry the code message which induces the human cell to manufacture spike protein of the Corona virus. These proteins are recognised by our immune system to produce antibodies.

Other Indian companies like Biological E, Cadila Healthcare and Genova are also in advanced stage of vaccine development.


29. Can I roam around without a mask once I am vaccinated?

No, not as of now. One may do so only when the majority of the population has either got the disease or received the vaccine. This means the population has developed herd immunity.


30. Are newer and better Covid vaccines expected in near future?

As of December 2020, more than 250 vaccines are under trial in different phases. A lot of research is underway to develop newer delivery methods also. Nasal spray vaccine is probably the most promising. A multi dose nasal spray delivery device can be very convenient and economical. It will produce local IgA antibodies and block the virus at entry itself. It will reduce nasal colonisation and thus prevent transmission of disease also. Unfortunately, since it will be a live vaccine, it will need maximum and most stringent trials and thus will take longest time to hit the market.

Covid-19 is still a new disease and we are still learning. The facts mentioned above are as of 14 December 2020. Please re-check the facts before taking a Covid vaccine shot.

No vaccine gives 100% protection. Also, a vaccinated person may not develop disease but may transmit it to others. Please continue to wear mask, observe physical distance and sanitize hands for some more time. 

Stay safe.





Thursday, 24 December 2020

LinkedIn Most Powerful Profiles Of The Year 2020

LinkedIn Most Powerful Profiles Of The Year 2020

LinkedIn Profile of the Year India 2020.

We are publishing this list as a surprise for  New Year. And for creativity purpose, so that all LinkedIn users can follow these inspiring personalities and find inspiration. In this list we tried to include all the motivational personalities who inspired people through their posts and actions throughout the year.

The list includes members who help jobbers, do commendable work in the field of education and create job opportunities, provide job oriented training, personality development and soft skill training. Who is a great public speaker, content writer, anchor and parenting coach. Those who are promoting menstrual hygiene and gender equality, spreading awareness about nature and society. Who helped people and spread awareness in the COVID-19 epidemic.

This list becomes more special because it is the result of our year-long research. This list has been compiled on the basis of simple enrollment. From the month of September, we started inviting nominations from users for this list via LinkedIn posts. We periodically publish LinkedIn profile rating lists under various categories like HR, anchoring, writing and editing soft skills etc. and also select profiles from those lists for the annual list.

Merry Christmas and Happy New Year to all of you!  

Here is the list - LinkedIn Person of the Year India 2020:





















Farmer Produce Trade and Commerce (Promotion and Facility) Bill 2020

 एक मिनट लगेगी पढ़ जरूर लियो भाई 🙏

It will take one minute to read  

https://bit.ly/2WGpm9N

If you do not know about the 3 bills imposed by the government, then please do a Google search. You will get your answer in every language.


If you want to understand broadly, let me calm your curiosity about 3 bills. I will make you aware of the ground reality that you will not find in the speech of any politician.


The first thing is in the State List of the Agrarian Reform Act, the Constitution and not in the Union List. Meaning that only the state has the right to make laws on agriculture, the center cannot interfere in it. This means that all three bills are completely against the Constitution.

Now let's talk about the three bills, in reality these three bills are interlinked. Which is in every way in favor of corporate and is similar to the death of general public and farmers.


A. First Bill- Farmer Produce Trade and Commerce (Promotion and Facility) Bill 2020


This bill said that any farmer, businessman, company or organization will be able to sell any crop in the country. Mandi board should be abolished.


 


 Sir, there is nothing new in this. The people of Tamil Nadu are still eating the apple of Kashmir. Every fruit, vegetable, spices, pulses, oilseeds is reaching every corner of the country. Now you will say what is bad in this, then I tell you its disadvantages-




1 Mandation is still going on in some states of the country. The farmer sells his crop in the mandi and is stocked from the mandi by FCI. This is the grain that the poor are getting as PDS. And from these mandis crops reach across the country.


 


This bill will eliminate the mandi board and the government will stop taking food grains, because the government has already been saying that FCI is carrying food grains, we should stop buying.


 


Due to this the poor will also die and the jobs of millions of people will also be lost.


 


There is no mention of MSP in the 2 bills, meaning the MSP also gradually ends. MSP (Minimum Support Price), it is the price that the government decides before every yield to buy the crop at least at this price.


 


 Now how would you say? I will make it clear that when a corporate entry is made in every market, then they will rate their choice. If the farmer does not want to sell, no one will buy.


 


The Indian farmer is not such a big farmer that he can store the crop. Fear of harvesting, repayment of debt, bank loans, household expenses, children will have to bend before expenses and sell the crop at one and a half price.




The smart people of the corporate know that there is no way for the farmers. The farmer, who already wants to fulfill his needs by selling the crop after about 6 months waiting for the growing crop like his children, will not be able to do it.




Now let's talk on MSP. There is still MSP all over the country, yet crops are not being purchased on MSP. Look at the state of Bihar itself, the worst condition is of the farmers there.




3 Now let's talk about selling the crop in any corner of the country.




Now you tell me whether the farmer has enough money to spend thousands of rupees and take millet from Rajasthan and sell it in Bengal. First spend thousands of rupees and then there is no hope that anyone will buy the crop. When will it be sold and for what price. The farmer is forced to sell the crop around him.




Now come on corporate, this bill is made for these people. By purchasing cheaper goods from the farmers, they will be able to store and then be able to easily transport them in the law.




4 In this bill, finance was told on any land, meaning it was deliberately hidden.




If tomorrow the corporate takes loan from the bank on the lease deed of your land, then you will not be able to do anything. And if the loan is not repaid, whose land will go, you do not understand.




B Second Bill- Farmers (Empowerment and Protection) Main Assurance and Services Agreement Bill 2020




The bill is on contract farming, that the farmer should lease his land for at least 20 years, so that the standard of living of the farmers can be elevated.




Mr. sir, now tell me that for the farmer his land is everything, mother is same. If the land does not exist, will the farmer be able to live?




Now you will say that someone is forcibly taking away the land, if you wish, give it on lease or not.




I believe that some people will greedily give their land on lease, but once the knock of the corporate, even the small farmers around will be forced to give their land.




Now I will tell you its losses -




After 1 lease, the farmer will legally be like a laborer, meaning the crop that the corporate has said will be sown.




Suppose the farmer is ordered to sow maize, then he will sow maize on the entire land. Now the farmer used to sow vegetables on the fields of the farm for his small needs, this also led to the harvest and the vegetable for the home. Moreover, if the farmer has to eat corn on his own, he will have to buy it from the market, but cannot do it from his field. If there is a sugarcane crop, you will not be able to get even one sugarcane for your children.




If he does, he can be fined. Means bonded laborers on their own land.




The corporate knows that the farmer will not leave his land, he will get laborers for cheaper and the crop is also his choice.




Another advantage of this to the corporate is that by deliberately sowing a crop in an area at the will of the corporate, that crop will produce much more and the price will naturally be reduced to the farmers.


2 According to the bill, in case of any debate, it will be settled on the local administration and not in the court.

Oh yes! Another corporate



अगर आप सरकार द्वारा पर थोपे गए 3 बिलों के बारे में नही जानते है तो कृप्या गूगल सर्च जरूर करें।आपको हर भाषा में आपका जवाब मिल जाएगा।


अगर आप मोटे तौर पर समझना चाहते है, तो मैं आपको 3 बिलों के बारे में आपकी उत्सुकता को शांत करता हूँ। मैं आपको उस जमीनी हकीकत से अवगत करवाऊंगा, जो आपको किसी राजनेता के भाषण में नही मिलेगी।


पहली बात कृषि सुधार कानून, संविधान की राज्य सूची में है न कि संघ सूची में। मतलब कृषि पर कानून बनाने का अधिकार सिर्फ राज्य को है, केन्द्र इसमें हस्तक्षेप नही कर सकता। इसका मतलब यह है कि यह तीनों बिल पूर्ण रुप से संविधान के खिलाफ है।


अब बात करते है तीनों बिलों की, असलियत में ये तीनों बिल आपस में जुङे हुए है। जो हर प्रकार से कार्पोरेट के पक्ष में है और आम जनता और किसानों की मौत के समान है।


A.पहला बिल- किसान उपज व्यापार और वाणिज्य (प्रमोशन और सहूलियत) बिल 2020


इस बिल मे कहा गया कि कोई भी किसान, व्यापारी, कंपनी या संस्था देश मे कही भी फसल बेच पाएगे। मंडी बोर्ड को खत्म किया जाए।

 

 श्रीमान जी, इसमे कुछ भी नया नही है। अभी भी तो तमिलनाडु के लोग, कश्मीर का सेब खा रहे है। हर फल, सब्जी, मसाले, दलहन, तिलहन देश के हर कोने मे पहूँच रहा है। अब आप कहेंगे कि इसमे बुरा क्या है, तो मैं आपको बताता हूँ इसके नुकसान-


1 देश के कुछ राज्यों में अभी भी मंडीकरण चल रहा है। किसान अपनी फसल मंडी में बेचता है और मंडी से FCI के द्वारा स्टाॅक हो जाता है। यही अनाज है जो गरीबो को PDS के रूप में मिल रहा है। और इन्ही मंडियो से देश भर मे फसलें पहुँचती है।

 

इस बिल से मंडी बोर्ड खत्म हो जाएगा और सरकार अनाज लेना ही बंद कर देगी क्योंकि सरकार तो पहले ही कहती आ रही है कि FCI में अनाज सङ रहा है, हमे खरीद बंद कर देनी चाहिए।

 

इससे गरीब भी मरेगा और लाखो लोगों के रोजगार भी चले जाएगे।

 

2 बिल मे MSP का कही कोई जिक्र ही नही है, मतलब MSP भी धीरे-धीरे खत्म। MSP (न्यूनतम समर्थन मूल्य), यह वह मूल्य है जो हर उपज से पहले सरकार तय करती है कि कम से कम इस मूल्य पर फसल खरीदी जाए। 

 

 अब आप कहेंगे खत्म कैसे? मैं स्पष्ट करता हूँ जब हर बाजार मे कार्पोरेट की एंट्री हो जाएगी तो वो अपना मनमर्जी का रेट लगाएंगे। अगर किसान बेचना नही चाहता तो कोई खरीदेगा भी नही।

 

भारतीय किसान, इतना बङा किसान नही है कि वो फसल को स्टोर कर सके। फसल सङने का डर, कर्ज वापसी, बैंको के लोन, घर के खर्चे, बच्चों के खर्चो के आगे झुक कर ओने-पोने भाव पर फसल बेचनी ही पङेगी।


कार्पोरेट के चालाक लोग जानते है कि किसानो के पास कोई रास्ता नही है। किसान, जो पहले से ही लगभग 6 महीने अपने बच्चों की तरह बढती फसल के इंतजार के बाद, फसल बेच कर अपनी जरूरत पूरी करना चाहता है, नही कर पाएगा।


अब बात करते है MSP पे। अभी भी पूरे देश भर मे MSP है, फिर भी MSP पर फसल नही खरीदी जा रही। बिहार राज्य में ही देख लीजिए, सबसे बुरा हाल है वहां के किसानों का।


3 अब बात करते है, फसल को देश के किसी भी कोने में बेचने की।


अब आप ही बताइए कि क्या किसान के पास इतना पैसा है कि वह हजारों रूपये खर्च कर राजस्थान से बाजरा ले जाकर बंगाल में बेच पाए। पहले तो हजारों रूपये खर्च करे और फिर उम्मीद नही कि फसल कोई खरीदेगा के नही। बिकेगी तो कब तक और किस मूल्य पर। इसी मजबूरन किसान अपने आस पास ही फसल बेच देता है।


अब आते है कार्पोरेट पर, यह बिल बनाया ही इन्ही लोगो के लिए है। किसानो से सस्ता माल खरीद कर, भंडारण करेंगे और उसके बाद कानून की ओट में आसानी से बेरोकटोक ट्रांसपोर्ट कर पाए।


4 इस बिल में कही भी भूमि पर फाइनेंस के बारे मे बताया गया, मतलब जानबूझकर छुपाया गया। 


अगर कल को कार्पोरेट, आपकी जमीन की लीज डीड पर बैंक से लोन लेता है तो आप कुछ भी नही कर पाएगे। और अगर लोन नही चुकाया तो जमीन किसकी जाएगी, समझ गये न आप।


B दूसरा बिल- किसान (सशक्तिकरण व संरक्षण) मुख्य आश्वासन और सेवा समझौता बिल 2020


यह बिल कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर है, कि किसान अपनी जमीनों को कम से कम 20 वर्ष के लिए लीज पर दे, ताकि किसानों के जीवन स्तर को उँच्चा किया जा सके।


श्रीमान जी, अब आप ही बताइए कि किसान के लिए उसकी जमीन ही सब कुछ है, मां समान है। अगर जमीन का अधिकार ही न रहा तो क्या किसान रह पाएगा।


अब आप कहेंगे कि कोई जबरदस्ती जमीन थोङी छीन रहा है, मर्जी है तो लीज पर दे, नही तो न दे।


मैं मानता हूँ कि कुछ लोग लालचवश अपनी जमीन लीज पर दे भी देगे, पर एक बार कार्पोरेट की दस्तक से आस पास के छोटे-मोटे किसानो को भी मजबूरन अपनी जमीन देनी ही पङेगी।


अब मैं आपको इसके घाटे बताता हूँ-


1 लीज के बाद किसान कानूनी रूप से एक मजदूर की तरह हो जाएगा, मतलब कार्पोरेट ने जो फसल कही वो ही बोनी पङेगी।


मान लीजिए किसान को मक्का बोने के आदेश दिए, तो पूरी जमीन पर मक्का ही बोएगा। अभी किसान अपनी छोटी-मोटी जरूरतो के लिए खेतों की मेङ पर शाक-सब्ज़ी बो लेता था, इससे फसल भी हो जाती थी और घर के लिए सब्जी का भी गुजारा हो जाता था। और तो और अगर किसान को अपने लिए भुट्टा भी खाना होगा तो बाजार से ही खरीदना होगा, अपने खेत से नही तोङ सकता। अगर गन्ना की फसल है तो आप अपने बच्चो के लिए एक गन्ना तक नही तोङ पाओगे।


अगर ऐसा करेगा तो उसे जुर्माना तक हो सकता है। मतलब अपनी ही भूमि पर बंधुआ मजदूर।


कार्पोरेट को पता है कि किसान अपनी जमीन छोड़कर कही नही जाएगा, सस्ता में मजदूर भी मिल जाएगा और फसल भी अपनी मर्जी की।


इसका एक और फायदा कार्पोरेट को है, वो ये है कि कार्पोरेट की मर्जी से जानबूझकर एक एरिया में एक फसल को बोने से, उस फसल की बहुत ज्यादा पैदावार होगी और मूल्य स्वभाविक रूप से किसानों को कम देना पङेगा।


2 बिल के अनुसार किसी भी वाद-विवाद होने पर, उसका निपटारा स्थानीय प्रशासन पर होगा न कि न्यायालय में।


लो जी! एक और कार्पोरेट को गिफ्ट।


क्या आपको लगता है कि भारत में स्थानीय प्रशासन या जिला कलेक्टर, एक कम पढ़े लिखे और गरीब किसान की बात सुनेगा, उसे तो ऊंची आवाज में फटकार कर भगा दिया जाएगा। फैसला हमेशा कार्पोरेट के पक्ष में ही होगा, अगर ऐसा नही करेगा तो आपको पता ही है कि भारत में क्या होता है। एक काॅल और बोलती बंद।


इसीलिए किसानो को न्यायालय से दूर रखा गया है ताकि कार्पोरेट को कोई दिक्कत न हो।


3 बिल के अनुसार वाद-विवाद की स्थिति मे किसान 1 माह मे और कार्पोरेट 2 माह मे स्थानीय प्रशासन को शिकायत कर सकता है।


अगर किसान 1 महीने मे शिकायत नही करता तो, वाद-विवाद अपने आप ही निरस्त। 


मतलब किसान को 1 महीने तक चक्कर निकलवाते रहो, उसके बाद मामला अपने आप ही खत्म।


4 बिल के अनुसार किसान अपनी जमीन मे कोई हस्तक्षेप नही कर सकता। मतलब कार्पोरेट के द्वारा 20 वर्षो तक किए गए दोहन से भूमि का उपजाऊपन खत्म कर देगा। 


कार्पोरेट वर्ग बिजनेसमैन है, उन्हे जमीन की उर्वरकता से कोई मतलब नही है, उसे तो बस फसल चाहिए। लीज खत्म होने के बाद जमीन सिर्फ बंजर भूमि रह जाएगी।


अगर किसान का विवेक जाग गया और अगर किसान ने अपनी पर अपनी मर्जी से उर्वरक डाल दिया तो उसे जेल की हवा खानी पङ सकती है।


C तिसरा बिल- जरूरी वस्तु (संशोधन) बिल 2020


लो जी हाजिर है हितैषी सरकार का दिया गया तोहफा, कार्पोरेट को- जमाखोरी। 


मतलब गेंहू, चावल, अन्य मोटे अनाज, दलहन, तिलहन, आलू, प्याज आदि वस्तुओं का अब तक एक निश्चित मात्रा व निश्चित समय के लिए व्यापारी स्टोर कर पाता था। परन्तु इस बिल के बाद कोई भी व्यापारी जितनी मात्रा में, जब तक चाहे स्टोर कर सकता है।


हमारे देश में व्यापारी वर्ग इतना सक्षम नही है कि ज्यादा मात्रा मे जरूरी वस्तुओ को स्टोर कर पाए। यह बिल सीधे तौर पर कार्पोरेट के पक्ष मे है और आम जनता को निश्चित रूप से महंगाई से जूझना पङेगा।


कार्पोरेट वर्ग पहले तो किसानों की भूमि पर मनचाहे हक से मनमर्जी की फसलें पैदा करेगा, जिसे कोई कानून नही रोक सकता। फिर मनमाने सस्ते दामों पर किसानों की फसलें खरीदेगा, क्योकि निर्धारित मूल्य का कोई कानून ही नही है। उसके बाद जितना चाहे, उतना भंडारण करेगा, किसी का बाप भी नही रोक सकता।


इस बिल का ताजा नुकसान अभी आलू के भाव सुनकर ही पता लगता है, जबकि इस समय आलू की नई फसल आने के कारण भाव हमेशा कम ही रहता था। परन्तु हो उल्टा रहा है, ये उल्टी गंगा कैसे बहने लग गई।


इसका गणित मैं आपको समझाता हूँ आप जानते ही है कि हमारे देश मे सबसे ज्यादा आलू की पैदावार उत्तरप्रदेश मे होती है। आलू को कोल्ड स्टोर मे रखा जाता है और आलू के बीज के अलावा भंडारण की निश्चित मात्रा जितना ही स्टोर किया जाता था, बुवाई के समय बीज के साथ लगभग सारी फसल को कोल्ड स्टोर से बाहर निकाल कर बेच दिया जाता था। ताकि नई  फसल को कोल्ड स्टोर मे रखा जा सके।


यह पहली बार हो रहा है कि भंडारण की खूली छूट मिलने के कारण न तो पुराना आलू बाहर आया, बल्कि उल्टा नया आलू भी स्टोर हो जाएगा।


मतलब कार्पोरेट अपनी मर्ज़ी से बाजार की जरूरत को देखकर आलू बेचेगा। किसान को क्या मिला, वही कौडियों के भाव।


श्रीमान जी, किसान अपना हक माँग रहे है। किसान सिर्फ अपना ही नही, देश के हर नागरिक का हक माँग रहे है।


अगर ये तीनों बिल रद्द नही किए और लागू हो गए तो, वो दिन भी दूर नही जब आपको और मुझको एक वक्त भूखे पेट सोना पङेगा क्योंकि अनाज, दाले और हर खाद्य सामग्री इतनी महंगी हो जाएगी कि हर कोई खरीद नही पाएगा।


किसानों कि माँग सिर्फ तीनों बिलो को रद्द करने की व MSP को कानूनन लागू करने की है ताकि फसल का एक निश्चित मूल्य हो। यदि कोई उस मूल्य से कम कोई खरीदता है तो सजा का प्रावधान हो, यह गलत भी नही है। यदि हर वस्तु का MRP हो सकता है तो किसानों की खून-पसीने की कमाई का क्यो नही।


श्रीमान जी, अब आप ही बताइए कि अगर मुझे भूख ही नही है तो जबरदस्ती क्यों खाना खिलाया जा रहा है। मतलब जब देश के किसानो पर बिना किसी जरूरत के कानून थोपे जा रहे है, ये कहां तक न्यायसंगत है।


हमारे देश मे 65 फीसदी जनसंख्या कृषि पर निर्भर है और कृषि से हर काम धंधा जुङा हुआ है। ऐसे में क्या किसानों को मारना जरुरी है।


श्रीमान जी, अब निश्चित रूप से कह सकता हूँ कि आप इन 3 विषैले कानूनो के बारे मे जान गए होगे।


एक बात और, आपने लिखा कि इस देशव्यापी जन आन्दोलन मे खालिस्तान है, अलगाववादी है, नक्सली है। श्रीमान जी, इसमे आपका कोई कसूर नही है। जो लालची मीडिया के माध्यम से सरकार द्वारा परोसा जा रहा है, वही आप देख रहे है। गोदी मिडिया आम जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है।


पर सांच कोई आंच नही।


आपने देखा ही है कि सरकार हर जगह, चाहे रैली हो या मन की बात। इन काले कानूनो का ऐसे बखान कर रहे थे, जैसे इन कानूनो के लागू होने से 1 रुपया, 70 डाॅलर का हो जाएगा।


मैं बचपन से एक बात सुनता आ रहा हूँ कि अगर किसी झूठ को बार-बार, जोर-जोर से बोला जाए। तो वह झूठ, झूठ नही रहता। लोग सच मानने लगते है। सरकार भी यह बात अच्छे से जानती है इसीलिए वो बार-बार यह राग अलाप रही है कि इस बिल से ये हो जाएगा, वो हो जाएगा। परन्तु सच्चाई सबको पता है कि सरकार एक कठपुतली की तरह काम कर रही है।


अब मैं आपका ध्यान थोङा सा जन आंदोलन की तरफ ले जाता हूँ। इस किसान आंदोलन की शुरूआत पंजाब से लगभग ढाई महीने पहले हुई। दो महीने शांतिमय धरने करने पर भी सरकार के कान पर जूँ तक न रेंगी। आखिर में निर्णय लिया गया कि केंद्र सरकार को अपनी समस्याएं सुनाई जाए और दिल्ली चलो का नारा के साथ जंतर-मंतर या रामलीला मैदान में धरना-प्रदर्शन किया जाए।


किसानों को पता था कि सरकार इतनी जल्दी हमारी बात नही सुनने वाली, इसलिए कम से कम छः महीने का राशन भी साथ मे लिया जाए। इससे पहले भी आंध्र प्रदेश के सैकङो किसान दिल्ली मे लगभग एक साल तक बैठे रहे, आखिर क्या हुआ।

 आखिरकार बेमन से वापिस जाना पङा।

 

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

निवेदन है, यह लड़ाई किसान के अस्तित्व की है, अगर आप किसान का समर्थन करते हैं, इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर कीजिए 

जय किसान








Monday, 14 December 2020

102 KGs of Gold lost due to CBIs Poor custody, the court entrusted the investigation to the police, then CBI started asking for its respect

For the first time in 70 years…

70 सालों में पहली बार...

सीबीआई की कस्टडी से 102 किलो सोना ग़ायब, कोर्ट ने पुलिस को सौंपी जांच तो सीबीआई लगाने लगी अपनी इज्जत की गुहार...

102 KGs of Gold lost due to CBIs  Poor  custody, the court entrusted the investigation to the police, then CBI started asking for its respect ...

102 kg of gold has gone missing from CBI custody in Tamil Nadu. After which the Madras High Court on Friday ordered the Tamil Nadu Police to investigate it. The price of this gold is around Rs 43 crore. The CBI has been embarrassed after the High Court verdict. The agency says that the CBI's reputation will come down if it is investigated by the local police ...!

The court has rejected the CBI's plea for not being investigated by the local police and asked the CB-CID to file an FIR. The court said, "It may be an ordeal for the CBI, but nothing can be done." If their hands are clean like Sita, they will survive and if not, they will have to bear the brunt of it. ”

The CBI Special Public Prosecutor has asked for a probe with the CBI or the National Investigation Agency instead of the state police. To this, Judge PN Prakash said that the court cannot do so as the law does not approve such an attack. The judge said that all policemen should be trusted and to say that the CBI is different and the local police should not investigate it is wrong ...!

Friends, there is a chaos in the country, sometimes Rafale's secret papers are stolen from the Ministry of Defense, sometimes the file of Vijay Mallya gets burnt from the court and now 102 kg of gold has disappeared from an institution like CBI. Neither the Ministry of Defense is safe, neither the court is safe nor the CBI is safe. Sometimes the top two top officials of the ED openly accuse each other, file a case, conduct raids, and sometimes four senior judges of the Supreme Court come on the road and press journalists and accuse the Chief Justice of bias ... !

It is called "Andher Nagari Chaupat Raja" and the king of the country describes himself as having a fifty-six inch chest ... 

70 सालों में पहली बार...

सीबीआई की कस्टडी से 102 किलो सोना ग़ायब, कोर्ट ने पुलिस को सौंपी जांच तो सीबीआई लगाने लगी अपनी इज्जत की गुहार...
तमिलनाडु में सीबीआई की हिरासत से 102 किलो सोना गायब हो गया है। जिसके बाद मद्रास उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को तमिलनाडु पुलिस को इसकी जांच करने के आदेश दिये हैं। इस सोने की कीमत करीब 43 करोड़ रुपये है। हाई कोर्ट के फैसले के बाद सीबीआई को शर्मिंदा होना पड़ा है। एजेंसी का कहना है कि यदि स्थानीय पुलिस द्वारा जांच की जाती है तो सीबीआई की प्रतिष्ठा नीचे आ जाएगी...!
कोर्ट ने सीबीआई की स्थानीय पुलिस द्वारा जांच ना कराये जाने की याचिका को खारिज कर दिया है और सीबी-सीआईडी ​​को एफ़आईआर दर्ज करने के लिए कहा है। कोर्ट ने कहा “यह सीबीआई के लिए अग्नि परीक्षा हो सकती है, लेकिन इसका कुछ नहीं किया जा सकता। अगर सीता की तरह उनके हाथ साफ हैं, तो वे बच जाएंगे और यदि नहीं, तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।”
सीबीआई के विशेष लोक अभियोजक ने राज्य पुलिस के बजाय सीबीआई या राष्ट्रीय जांच एजेंसी से जांच कराने की बात कही है। इस पर न्यायाधीश पी एन प्रकाश ने कहा कि अदालत ऐसा नहीं कर सकती, क्योंकि कानून इस तरह के आक्षेप को मंजूरी नहीं देता है। जज ने कहा कि सभी पुलिसकर्मियों पर भरोसा किया जाना चाहिए और यह कहना कि सीबीआई अलग है और स्थानीय पुलिस को उसकी जांच नहीं करनी चाहिए गलत है...!
दोस्तों, देश में अफलातून सरकार है, कभी रक्षा मंत्रालय से राफेल के सीक्रेट काग़ज़ चोरी हो जाते हैं, तो कभी कोर्ट से विजय माल्या की फाइल जल जाती है और अब सीबीआई जैसी संस्था से 102 किलो सोना गायब हो गया. ना रक्षा मंत्रालय सुरक्षित, ना कोर्ट सुरक्षित और ना सीबीआई सुरक्षित. कभी ईडी के शीर्ष दो बड़े अधिकारी खुले आम एक दूसरे पर आरोप लगाते हैं, केस दर्ज कराते हैं, छापे डलवाते हैं, तो कभी सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जज सड़क पर आकर पत्रकार वार्ता कर चीफ जस्टिस पर पक्षपात का आरोप लगाते हैं...!
इसे कहते हैं "अंधेर नगरी चौपट राजा" और देश का राजा खुद को छप्पन इंची सीने वाला बताता है...


Sunday, 13 December 2020

Video Resume How to create a Video Resume: Definition, Tips and Sample Examples

Video Resume

[New Normal Post Covid19] 

How to create a Video  Resume: Definition, Tips and Sample Examples

A Video  Resume allows you to speak directly to your potential employer which makes you uniquely qualified for the role. This can be a strong addition to your application and will help you better differentiate yourself from other applicants through your personality and creativity. In this article, we discuss how to make a Video  Resume and figure out how to make it effective and engaging.

Have a Video  Resume?

A Video  Resume is a short Video  that you introduce to a hiring manager or recruiter. It is often presented in addition to a Resume and cover letter. You can use Video  Resume to show skills or highlight experience so that you can be a perfect fit for the position. It also allows you to show how your creativity and personality match to the company's culture. An effective Video  Resume is between 30 seconds to two minutes.

You can consider resuming the Video  in the following situations:

It is required by the employer. Some companies may ask you to provide a "elevator pitch" with a Video  Resume to explain why you are a strong candidate for a role. This method also helps to demonstrate your personality that they might not otherwise meet with other elements of your application.

You have a comprehensive Resume. If you have a lot of relevant experience, you can consider resuming the Video  to summarize your top qualities and help the hiring manager understand that especially you What makes a uniquely qualified candidate. After watching your Video  Resume, they can keep those top lighting in mind when reviewing your traditional Resume, cover letter, and other materials.

You want to personalize your application. While other companies may not require this, a Video  Resume can personalize your application, helping to stand out from other candidates. By looking at your face, you can leave a lasting impression on hiring managers while listening and speaking as you demonstrate your skills.

How to  Make a Video Resume

How to create a Video  Resume: Definition, Tips and Sample Examples

Resuming the Video  is a different process than writing a Resume or cover letter. This requires stage preparation and technical skills, such as visual storytelling and editing. Here are the steps to Resume the Video :

1. Write a script.

In this first step, make a plan for the Video  you want to watch. Consider whether you only want to sit in front of the camera for a speech or you want to add action shots that show skill. If you include action, write each step of the Video  so that you understand its chronology.

In addition to what the Video  looks like, you should also tell us what you want to say. If you want to sound more interactive rather than rehearsal, consider writing bullet points of specific skills, experience and qualifications you want to highlight. If you want to rehearse and be a little more polished, write what you want to say.

When writing your speech, consider using strong verbs that are included in your traditional résumé to increase the impact of your words.

2. Prepare a filming space.

If you have shots of the camera sitting upright and speaking, set up a space with a neutral background and attractive lighting. You can include props that seem natural to the environment and don't distract the viewer from you. If you are including action shots, make sure the space is populated with the necessary props and equipment. You can also consider limiting the number of people in the background or the people who appear in the frame with you.

3. Set up a recording device.

Choose a recording device - either a smartphone, tablet, computer or camera - that can capture your face and other images, as well as high-quality images and audio to ensure your speech is clear. Set the recording device high enough to occupy your face and shoulders and far enough away that your entire profile is in the frame. If you are including action shots in your Video , make sure that the device captures you perfectly.

4. Record takes many.

Using your script or outline, record each section of your Video  Resume. Record your Video  multiple times using various expressions and vocal tones to ensure that you are relaxed, engaged and polished throughout. If you are stagnant while speaking, consider dividing your speech into smaller sections so that you can easily restart or try something new. This step can help you select the best and make your editing process work.

If you are registering an action, you can record a long section of repeated actions without stopping and restarting. This step will allow you to include one of your action footage


Video Resume Script Sample / Example


You can use the following  Video Resume  Sample / Example to help you craft your own.

Hello Aeroft Corp

My name is Vandika Gupta, and I want to be your new social media expert. Since AeroSoft Corp. New is active on social media, so I want to apply my experience in online community engagement to help your company become more involved in the lives of its customers.

In my spare time, I run a social media account for my friend's book review podcast. I use analytics for sites to determine when their listeners are most active on their social media pages, and I post every week to publish at the ideal time and when a new episode goes live .

I also have a monthly poll to ask my listeners which books they like best and ask them to give recommendations for review. With this fun side opportunity, I have successfully built an online book club around my friend's podcast and increased my social media engagement and that of his audience - 10%.

I believe that this experience has prepared me to transform Datines' online presence and build a strong community of customers.

Sincerely,

Vandika Gupta

See Here What Is ViSume 👇





वीडियो रिज्यूमे कैसे बनाएं: परिभाषा, टिप्स और उदाहरण

एक वीडियो फिर से शुरू होने से आप अपने संभावित नियोक्ता से सीधे बात कर सकते हैं जो आपको भूमिका के लिए विशिष्ट रूप से योग्य बनाता है। यह आपके आवेदन के लिए एक मजबूत जोड़ हो सकता है और आपके व्यक्तित्व और रचनात्मकता के माध्यम से आपको अन्य आवेदकों से बेहतर ढंग से अलग करने में मदद करेगा। इस लेख में, हम चर्चा करते हैं कि एक वीडियो फिर से शुरू होता है और यह पता लगाना है कि प्रभावी और आकर्षक बनाने के लिए कैसे करें।

क्या एक वीडियो फिर से शुरू है?

एक वीडियो फिर से शुरू एक छोटा वीडियो है जो आप खुद को काम पर रखने वाले प्रबंधक या भर्तीकर्ता से मिलवाते हैं। यह अक्सर एक फिर से शुरू और कवर पत्र के अलावा प्रस्तुत किया जाता है। आप कौशल दिखाने या अनुभव को उजागर करने के लिए वीडियो फिर से शुरू का उपयोग कर सकते हैं ताकि आप स्थिति के लिए एक सही फिट हो सकें। यह आपको यह दिखाने की सुविधा भी देता है कि आपकी रचनात्मकता और व्यक्तित्व कंपनी की संस्कृति के लिए कैसे मेल खाते हैं। एक प्रभावी वीडियो फिर से शुरू 30 सेकंड से दो मिनट के बीच है।

आप निम्नलिखित स्थितियों में वीडियो फिर से शुरू करने पर विचार कर सकते हैं:

यह नियोक्ता द्वारा आवश्यक है। कुछ कंपनियां आपको "एलेवेटर पिच" ​​प्रदान करने के लिए एक वीडियो फिर से शुरू करने के लिए कह सकती हैं कि आप एक भूमिका के लिए एक मजबूत उम्मीदवार क्यों हैं। यह विधि आपके व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में भी मदद करती है कि वे आपके आवेदन के अन्य तत्वों से अन्यथा नहीं मिल सकती हैं।

आपके पास एक व्यापक रिज्यूम है। यदि आपके पास बहुत अधिक प्रासंगिक अनुभव है, तो आप अपने शीर्ष गुणों को संक्षेप में प्रस्तुत करने के लिए वीडियो फिर से शुरू करने पर विचार कर सकते हैं और काम पर रखने वाले प्रबंधक को यह समझने में मदद कर सकते हैं कि विशेष रूप से आपको विशिष्ट योग्य उम्मीदवार क्या बनाता है। आपके वीडियो को फिर से शुरू देखने के बाद, वे आपके पारंपरिक फिर से शुरू, कवर पत्र और अन्य सामग्रियों की समीक्षा करते समय उन शीर्ष प्रकाश को ध्यान में रख सकते हैं।

आप अपने आवेदन को निजीकृत करना चाहते हैं। हालांकि अन्य कंपनियों को इसकी आवश्यकता नहीं हो सकती है, जिसमें एक वीडियो फिर से शुरू करना आपके आवेदन को वैयक्तिकृत कर सकता है, जो अन्य उम्मीदवारों से बाहर खड़े होने में मदद करता है। अपना चेहरा देखकर, आप बोलते हुए सुनना और अपने कौशल का प्रदर्शन करते हुए प्रबंधकों को काम पर रखने पर एक स्थायी छाप छोड़ सकते हैं।

कैसे एक वीडियो फिर से शुरू करने के लिए

वीडियो को फिर से शुरू करना एक फिर से शुरू करने या कवर पत्र लिखने से अलग प्रक्रिया है। इसके लिए चरण की तैयारी और तकनीकी कौशल, जैसे दृश्य कहानी और संपादन की आवश्यकता होती है। यहां वीडियो फिर से शुरू करने के चरण दिए गए हैं:

1. एक स्क्रिप्ट लिखें।

इस पहले चरण में, आप जो वीडियो देखना चाहते हैं, उसके लिए एक योजना बनाएं। इस बात पर विचार करें कि क्या आप केवल एक भाषण के लिए कैमरे के सामने बैठना चाहते हैं या आप कौशल दिखाने वाले एक्शन शॉट्स जोड़ना चाहते हैं। यदि आप कार्रवाई शामिल करते हैं, तो वीडियो के प्रत्येक चरण को लिखें ताकि आप इसके कालक्रम को समझ सकें।

वीडियो कैसा दिखता है इसके अलावा, आपको यह भी बताना चाहिए कि आप क्या कहना चाहते हैं। यदि आप पूर्वाभ्यास के बजाय अधिक संवादात्मक ध्वनि करना चाहते हैं, तो उन विशिष्ट कौशल, अनुभव और योग्यता के बुलेट बिंदु लिखने पर विचार करें जिन्हें आप हाइलाइट करना चाहते हैं। यदि आप पूर्वाभ्यास करना चाहते हैं और थोड़ा और पॉलिश होना चाहते हैं, तो वही लिखें जो आप कहना चाहते हैं।

अपना भाषण लिखते समय, अपने शब्दों के प्रभाव को बढ़ाने के लिए अपने पारंपरिक रिज्यूमे में शामिल किए जाने वाले मजबूत क्रिया क्रियाओं का उपयोग करने पर विचार करें।

2. एक फिल्माने की जगह तैयार करें।

यदि आपके पास कैमरे के सीधे बैठने और बोलने के शॉट्स हैं, तो तटस्थ पृष्ठभूमि और आकर्षक प्रकाश व्यवस्था के साथ एक जगह स्थापित करें। आप उन प्रॉप्स को शामिल कर सकते हैं जो पर्यावरण के लिए स्वाभाविक लगते हैं और दर्शक को आपसे विचलित नहीं करते हैं। यदि आप एक्शन शॉट्स शामिल कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि अंतरिक्ष आवश्यक प्रॉप्स और उपकरणों से आबाद है। आप पृष्ठभूमि में उन लोगों की संख्या या उन लोगों को सीमित करने पर भी विचार कर सकते हैं जो आपके साथ फ्रेम में दिखाई देते हैं।

3. एक रिकॉर्डिंग डिवाइस सेट करें।

एक रिकॉर्डिंग डिवाइस चुनें - या तो एक स्मार्टफोन, टैबलेट, कंप्यूटर या कैमरा - जो आपके चेहरे और अन्य छवियों, साथ ही साथ आपके भाषण को सुनिश्चित करने के लिए उच्च-गुणवत्ता वाली छवियां और ऑडियो कैप्चर कर सकते हैं, स्पष्ट हैं। रिकॉर्डिंग डिवाइस को अपने चेहरे और कंधों पर कब्जा करने के लिए पर्याप्त रूप से सेट करें और बहुत दूर कि आपका पूरा प्रोफ़ाइल फ्रेम में हो। यदि आप अपने वीडियो में एक्शन शॉट्स शामिल कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि डिवाइस आपको पूरी तरह से कैप्चर करता है।

4. रिकॉर्ड कई लेता है।

अपनी स्क्रिप्ट या रूपरेखा का उपयोग करते हुए, अपने वीडियो फिर से शुरू के प्रत्येक खंड को रिकॉर्ड करें। विभिन्न अभिव्यक्तियों और मुखर स्वरों का उपयोग करके अपने वीडियो को कई बार रिकॉर्ड करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आप पूरे आराम से, लगे हुए और पॉलिश किए हुए हैं। यदि आप बोलते समय स्थिर होते हैं, तो अपने भाषण को छोटे खंडों में विभाजित करने पर विचार करें ताकि आप आसानी से कुछ नया पुनः आरंभ या प्रयास कर सकें। यह चरण आपको सर्वश्रेष्ठ का चयन करने में मदद कर सकता है और आपकी संपादन प्रक्रिया को कारगर बना सकता है।

यदि आप कार्रवाई दर्ज कर रहे हैं, तो आप बिना रुके और पुनः आरंभ किए बार-बार होने वाले कार्यों का एक लंबा खंड रिकॉर्ड कर सकते हैं। यह चरण आपको शामिल करने के लिए अपने एक्शन फ़ुटेज के किसी एक क्षेत्र का चयन करने की अनुमति देता है, और यह एक्शन को पूर्वाभ्यास के बजाय अधिक स्वाभाविक भी बना सकता है।

5. अतिरिक्त दृश्य एकत्र करें।

आपके वीडियो के फिर से शुरू होने की सामग्री के आधार पर, आप सूचना के स्लाइड, इन्फोग्राफिक्स, फोटोग्राफ या क्लिपिंग जैसे तत्वों को शामिल कर सकते हैं। अपनी संपादन प्रक्रिया से पहले या पहले, सभी मा को एकत्रित करने पर विचार करें



See Here Sample of ViSume 👇


Cheers To friendship Zindagi Matlab kya.?

 Plz read slowly Pura Read karna. it’s a very Nice one...

Zindagi Matlab kya.?

"Ek dhundli si shaam, 4  dost. 4 glass , ek bottle ."

  

Zindagi...mtlb kya..?

"1 innova car, 7 dost, aur 1 khula lamba pahadi Raasta"


Zindagi...mtlb kya.?

"1 dost ka ghar, Halki si Baarish, aur dher saari baatein..


Zindagi...mtlb kya..?

"school ke dost, Bunk Kiya hua Lecture, 1 kachori, 2 samose aur bill par hone wala jhagda...


Zindagi...mtlb kya...?

"Phone uthate hi pdhne wali dost ki mithi se gaali, aur Sorry kehne

par 1 aur gaali"


Zindagi...mtlb kya..?

"Kuch saalon baad, Aachanak purane dost ka 1 sms, Dhundli padi

kuch bhigi yadein aur Ankho me aaye aansu.


“We make many friends,

Some become Dearest,

Some become Special,

Some We Fall in Love with,

Some go Abroad,

Some change cities,

Some Leave us

We Leave some,

Some are in contact,

Some are not in contact

& Some don't contact

because of their ego,

We don't contact some

because of our ego,

Wherever they are,

However they are,

We still remember,

Love, Miss & Care

about them because of the part they played, in our life.”


“No matter how often you talk or how close you are this is for old friends to know they haven't been forgotten & tell new friends they will never be forgotten” 


Cheers To friendship




Saturday, 12 December 2020

An Introduction - age 77 years

 An Introduction - age 77 years


1. His wife and daughter died in a Road Accident [while going to buy a Christmas tree]


 2. One son died of brain cancer.


3. The second son was fired by the US Navy due to cocaine addiction.


4. This person has paralysis (facial palsy) in the facial muscles for some time.


Under all these circumstances, at the age of 77, this person has become the President of America, the world's most powerful country. 

Joe Biden


He will be physically and mentally fit to take this huge responsibility. 

And we at the age of 60 think that every thing is over. 

So all senior citizens take this as your New Beginning. Set your targets. You are still young. Work hard and achieve what you could not achieve till now.



एक परिचय -  उम्र 77 वर्ष


1.पत्नी और बेटी की मृत्यु रोड एक्सीडेंट में Christmas tree खरीदने के लिए जाते वक्त हो गई थीl


 2.एक बेटे की मृत्यु ब्रेन कैंसर से हुईl 


3.दूसरे बेटे को कोकीन के नशे की लत की वजह से यूएस नेवी ने निकाल दियाl


4.इस व्यक्ति को कुछ समय के लिए चेहरे की मसल्स में पैरालायसिस (फेशियल पाल्सी) हुआ l


इन सब विपरीत परिस्थितियों में भी यह व्यक्ति 77 वर्ष की उम्र में विश्व के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका का राष्ट्रपति बना है l  Joe Biden


He will be physically and mentally fit to take this huge responsibility. 

And we at the age of 60 think that every thing is over. 

So all senior citizens take this as your New Beginning. Set your targets. You are still young. Work hard and achieve what you could not achieve till now.


Friday, 11 December 2020

Story of State Bank of India

 स्टेटबैंक की कहानी :*

Story of State Bank of India : *


Story of Statebank: *


Not necessarily


Donation should be done for atonement of sins.


State Bank Account


Too freely


 Atonement can be made ..


If it is a small sin


 Go to find the balance.

It is learned that after hitting the four counters


 Balance Gupta will tell Madam.


What is Gupta Madam's counter,


 To find out


 Then one has to go to the counter.


Level one was completed. That means Gupta Madam


 The counter is detected. But we have to wait a little bit because


 Madam is not in the seat yet.


After half an hour put on glasses,


 Handles the pallu,


Gupta Madam running at 2G speed of Uninor


 On the seat


She sits.


You madam


Balance is asked by giving account number.




Ma'am


First of all


You look like this,


like


You his


Have demanded daughter's hand. you too


 Like your little


Make it


Like a tsunami has devastated you,


And to date


 older than you


No one is helpless unhappy.




Gupta Madam


your


There is a pity for some, and


She makes up her mind to do heavy work like telling balance. but


 How can Abla alone do so much work?


 So Madam calls for help ~




"Mishra ji sss, how do we find this balance?"




Mr. Mishra,


 Abla ki


 Hearing shouted


Ours


 Of knowledge


We open the treasure.




First, go inside the account and click on the closing balance


 After doing so, the balance used to come. But still system


Changed. Now you


 press f5,


And inter kill


Balance will show .. "




Gupta Madam


Fixes glasses,


 Three times towards the monitor and three times on the keyboard


Looks


Then fingers on the keyboard


It turns out, as if a third class boy is looking for the smallest country in the world map, Muscat.




Madam again to Mishra


Call for help ~


"Mr. Mishra,


Where is this f5 .. ?? "




Probably due to Madam's age above fifty.


 Mr. Mishra


 Do not bother to come and help.


So


 Sitting there


Speak loudly ~




In the board of


Look at the top, Madam .. "




"But above all


Only three lights are on .. "




"Yes under those lights.


Is a long line


 from f1 to f12 .. "




Final,


 Madam gets f5. Madam quickly presses the button. Half an hour on the monitor


 Sandhgadi, (Some people call it Damru)


 Keeps maintained.




In the end


A message arrives


"Session expired. Please check your connection .."




Madam lays down her arms.


One look your


 On the face of poverty


Pours and says ~


"Sorry, the server has a problem."




Tone of say


Exactly the same


Happens like


 Doctors come out of the theater in old films


Used to say ~




"Sorry, we tried a lot


But to Thakur sir


Could not save ... "


(The ultimate joy of this story will be enjoyed only by the victims.)




स्टेटबैंक की कहानी :*


ज़रूरी नहीं कि

पापों के प्रायश्चित के लिए दान पुण्य ही किया जाए।


स्टेट बैंक में खाता

खुलवा कर भी

 प्रायश्चित किया जा सकता है..


छोटा मोटा पाप हो, तो

 बैलेंस पता करने चले जाएँ।


चार काउन्टर पर धक्के खाने के बात पता चलता है, कि

 बैलेंस गुप्ता मैडम बताएगी।


गुप्ता मैडम का काउन्टर कौन सा है,

 ये पता करने के लिए

 फिर किसी काउन्टर पर जाना पड़ता है।


लेवल वन कम्प्लीट हुआ। यानी गुप्ता मैडम का

 काउन्टर पता चल गया है। लेकिन थोड़ा वेट करना पड़ेगा, क्योंकि

 मैडम अभी सीट पर नहीं है।


आधे घंटे बाद चश्मा लगाए,

 पल्लू संभालती हुई, 

युनिनोर की 2G स्पीड से चलती हुई गुप्ता मैडम

 सीट पर

विराजमान हो जाती है।

आप मैडम को 

खाता नंबर देकर बैलेंस पूछते है।


मैडम 

पहले तो

आपको इस तरह घूरती है,

जैसे 

आपने उसकी

बेटी का हाथ मांग लिया है। आप भी

 अपना थोबड़ा ऐसे

बना लेते है

जैसे सुनामी में आपका सब कुछ उजड़ गया है,

और आज की तारीख में

 आपसे बड़ा

लाचार दुखी कोई नहीं है।


गुप्ता मैडम को 

आपके

थोबड़े पर तरस आ जाता है, और 

बैलेंस बताने जैसा भारी काम करने का मन बना लेती है। लेकिन

 इतना भारी काम, अकेली अबला कैसे कर सकती है?

 तो मैडम सहायता के लिए आवाज लगाती है~


"मिश्रा जीsss, ये बैलेंस कैसे पता करते है?"


मिश्राजी,

 अबला की

 करुण पुकार सुनकर

अपने

 ज्ञान का

ख़ज़ाना खोल देते है।


पहले तो खाते के अंदर जाकर क्लोजिंग बैलेंस पर क्लिक

 करने पर बैलेंस आ जाता था। लेकिन अभी सिस्टम 

चैंज हो गया है। अभी आप

 f5 दबाएँ, 

और इंटर मार दे, तो 

बैलेंस दिखा देगा.."


गुप्ता मैडम 

चश्मा ठीक करती है,

 तीन बार मॉनिटर की तरफ और तीन बार की-बोर्ड की तरफ़

नजर मारती है। 

फिर उंगलियाँ की-बोर्ड पर 

ऐसे फिराती है, जैसे कोई तीसरी क्लास का लड़का वर्ल्ड मैप में सबसे छोटा देश मस्कट ढूंढ रहा हो.


मैडम फिर मिश्रा जी को 

मदद के लिए पुकारती है~

"मिश्रा जी, 

ये f5 किधर है..??"


शायद मैडम की उम्र पचास से ऊपर होने के कारण.

 मिश्रा जी

 पास आकर मदद करने की ज़हमत नहीं उठाते।

इसलिए

 वहीँ बैठे बैठे

जोर से बोलते है~


की बोर्ड में 

सबसे ऊपर देखिये मैडम.."


"लेकिन सबसे ऊपर तो 

सिर्फ़ तीन बत्तियां जल रही है.."


"हां उन बत्तियों के नीचे है। 

लम्बी लाइन है

 f1 से लेकर f12 तक.."


फ़ायनली,

 मैडम को f5 मिल जाता है। मैडम झट से बटन दबा देती है। मॉनिटर पर आधे घंटे तक 

 रेतघड़ी, (कुछ लोग उसे डमरू कहते हैं)

 बनी रहती है।


अंत में

एक मैसेज आता है~

"Session expired. Please check your connection.."


मैडम अपने हथियार डाल देती है।

एक नजर, आपके

 ग़रीबी-लाचारी से पुते चेहरे पर

डालती है और कहती है~

"सॉरी, सर्वर में प्रोब्लम है.."


कहने का टोन 

ठीक वैसा ही

होता है, जैसे

 पुरानी फिल्मों में डॉक्टर ओपरेशन थियेटर से बाहर आ कर

कहता था~


"सॉरी, हमने बहुत कोशिश की

पर ठाकुर साहब को

नहीं बचा पाए..."


🤪👍

(इस सत्यकथा का परम  आनन्द, केवल भुक्तभोगी ही उठा पाएंगे.)