Sunday, 26 May 2019

Petition File in Supreme Court Against Pension To Politicians

Petition File in Supreme Court Against Pension To Politicians

Share & Support Cause

अब नेताओ की खैर नही सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर हुई है, इसे आपके आकलन के लिए भेज रहे है .. 

प्रिय / सम्मानित भारत के नागरिकों... 

आपसे इस संदेश को पढ़ने का अनुरोध किया जाता है और अगर सहमत हैं,तो कृपया अपनी संपर्क के सभी लोगों को भेजे और बदले में उनमें से प्रत्येक को भी आगे भेजने के लिए कहें। तीन दिनों में, पूरे भारत में यह संदेश होना चाहिए। भारत में हर नागरिक को आवाज उठानी चाहिए_2019 का सुधार अधिनियम_ - सांसदों को पेंशन नहीं मिलनी चाहिए क्योंकि राजनीति कोई नौकरी या रोजगार नही है बल्कि एक निःशुल्क सेवा है।

 - राजनीति लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत एक चुनाव है,इसकी पुनर्निर्माण पर कोई सेवानिवृत्ति नहीं है,लेकिन उन्हें फिर से उसी स्थिति में फिर से चुना जा सकता है। (वर्तमान में उन्हें पेंशन मिलती है सेवा के 5 साल होने पर)।

इसमें एकऔर बड़ी गड़बड़ी यह है कि अगर कोई व्यक्ति पहले पार्षद रहा हो,फिर विधायक बन जाए और फिर सांसद बन जाए तो उसे एक नहीं,बल्कि तीन-तीन पेंशनें मिलती हैं।

यह देश के नागरिकों साथ बहुत बड़ा विश्वासघात है जो तुरंत बंद होना चाहिए। - केंद्रीय वेतन आयोग के साथ संसद सदस्यों सांसदो का वेतन भत्ता संशोधित किया जाना चाहिए और इनको इनकम टैक्स के दायरे में लाया जाए।

(वर्तमान में वे स्वयं के लिए मतदान करके मनमाने ढंग से अपने वेतन व भत्ते बढा लेते हैं और उस समय सभी दलों के सुर एक हो जाते हैं।

- सांसदों को अपनी वर्तमान स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली त्यागनी चाहिए और भारतीय जन-स्वास्थ्य के समान स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में भाग लेना चाहिए।

इलाज विदेश में नही भारत मे होना चाहिए इनका,अगर विदेश में करवाना है तो अपने खर्च से करवाएँ । मुफ्त छूट,राशन,बिजली,पानी,फोन बिल जैसी सभी रियायत समाप्त होनी चाहिए। (वे न केवल ऐसी बहुत सी रियायतें प्राप्त करते हैं बल्कि वे नियमित रूप से इसे बढ़ाते भी रहे हैं)

- अपराधी नेताओं को चुनाव लड़ने से रोका जाए, संदिग्ध व्यक्तियों के साथ दंडित रिकॉर्ड,अपराधिक आरोप और दृढ़ संकल्प, अतीत या वर्तमान को संसद से प्रतिबंधित किया जाना चाहिए, कार्यालय में राजनेताओं के कारण होने वाली वित्तीय हानि,उनके परिवारों,नामांकित व्यक्तियों,संपत्तियों से वसूल की जानी चाहिए।

- सांसदों को भी सामान्य भारतीय लोगों पर लागू सभी कानूनों का समान रूप से पालन करना चाहिए।

- नागरिकों द्वारा एलपीजी गैस सब्सिडी का कोई समर्पण नहीं जब तक सांसदों और विधायकों को उपलब्ध सब्सिडी,संसद कैंटीन में सब्सिडी वाले भोजन,सहित अन्य रियायतें वापस नहीं ले ली जाती।

-संसद में सेवा करना एक सम्मान है,लूटपाट के लिए एक आकर्षक करियर नहीं।

-फ्री रेल और हवाई जहाज की यात्रा की सुविधा बंद हो।

आम आदमी क्यो उठाये इनकी मौज मस्ती का खर्च

यदि प्रत्येक व्यक्ति कम से कम बीस लोगों से संपर्क करता है तो भारत में अधिकांश लोगों को यह संदेश प्राप्त करने में केवल तीन दिन लगेंगे।

क्या आपको नहीं लगता कि यह मुद्दा उठाने का सही समय है ?

यदि आप उपर्युक्त से सहमत हैं, तो इसे forward करें।

यदि नहीं, तो बस हटाएं।

आप मेरे 20+ में से एक हैं कृपया इसे जारी रखें...
https://crazy-guru.anxietyattak.com/2019/05/petition-file-in-supreme-court-against.html

धन्यवाद।

जयहिन्द,वन्देमातरम्...🙏 














Now a leader of the leaders has filed a PIL in the Supreme Court, sending it for your assessment.



Dear / Respected Citizens of India ...



If you are requested to read this message and if you agree, please send all the people of your contact and in turn ask them to forward each of them also. In three days, this message should be done all over India. Every citizen should raise voice in India. Improvement of the post of MD019 Act_ - MPs should not get pension because politics is not a job or employment, but a free service.



 - Politics is an election under the Public Representation Act, there is no retirement on its reconstruction, but they can be re-elected in the same situation again. (Currently he gets pension, after 5 years of service)



One more disorder is that if a person is a first councilor, then become a legislator and then become a member, then he gets three-three pension but not one.



It is a big betrayal with the citizens of the country which should be closed immediately. - With the Central Pay Commission, the salary allowance of MPs of MPs should be revised and they should be brought under the income tax.



(At present, they increase their salaries and allowances arbitrarily by voting for themselves and at that time all the parties become united.



- MPs should discard their current health care system and participate in health care system similar to Indian public health.



Treatment should not be done abroad in India, if it is to be done abroad, get it done at your own expense. All concession of free discount, ration, electricity, water and phone bill should be discontinued. (They not only receive such concessions but they also have been increasing it regularly)



- Criminals should be prevented from contesting elections, punishments, criminal charges and determination, suspicion or determination with suspicious persons, past or present should be banned from Parliament; financial loss due to politicians in the office, their families, nominated persons, Assets should be recovered from



MPs should also follow all the laws applicable to common Indian people alike.



- There is no dedication to the LPG gas subsidy by the citizens unless other subsidies including subsidized food available to MPs and MLAs, subsidized food in the Parliament canteen are withdrawn.



- Serving in the Parliament is a respect, not a lucrative career for looting.



-Free rail and airplane travel facility is closed.



Why the common man raised their fun



If every person communicates with at least twenty people, most people in India will only take three days to get this message.



Do not you think this is the right time to raise this issue?



If you agree with the above, then forward it.



If not, just delete it.



You are one of my 20+ please continue this ...

आप मेरे 20+ में से एक हैं कृपया इसे जारी रखें...

https://crazy-guru.anxietyattak.com/2019/05/petition-file-in-supreme-court-against.html


Thank you.



Jahhind, vande mataram ... 🙏

Saturday, 25 May 2019

Excuses of the Accident in Surat

21 बच्चे हमेशा के लिए सो गए फिर भी हम नहीं जागेंगे, हैं ना...
Find out the Excuses of the Accident in Surat
21 Innocent Kids have gone to sleep forever
But we will not wake up,
Are You ...

"There are some topics on which writing is like breaking a soul on your soul, fire in the building of Surat ...
death of 21 children ...
children scared of fire and suffocation have not seen this horrible video till today

We do not teach children to teach children, teach life skills. Control the fear Working quietly. "

Mama is feeling scared ... missed everything for the exam but forgot to go to the Exam Hall ... there was nothing to remember. The feet were moist ... sweat in the hands ... you caress him for two minutes ... try unsuccessfully to try, then read it - read it - take a rote to read. In the morning 8 hours in the school, the child who is studying in the school again sent 4-5 hours of coaching. To make a horse for the race of life, in reality, we are making them a rat of rathaudra. Can not teach the way to live - the mantra to be happy ... and not even teach life skills. In adversity, patience and calm are not able to teach the art of living life, and for this only and only we and our guardians and our society are responsible. I took AYUSH to New Zealand at the age of five ... I was brought back to India at the age of 9 ... how to defend herself from the nursery class to the festate and the fire ... Feeling Safe Feeling Special (Child Abuse), if you are drowning in water, how to save yourself from being alive for a long time and drowning ....... Subjects were taught every year. The employees and officers associated with firefighting came to school every month. Children were taught how to act in the opposite conditions by controlling fear. How to help each other by creating a Human Chain ... to keep yourself from helping hand so that you keep yourself safe until you get help ....

We can not teach all this .... Gift of Life Skills to the children not being able to ... Avoid the opposite conditions. Just watch the incident tomorrow ... Our children did not know that when a fierce fire broke out How do they save themselves and their friends? .... do not learn how our children have taught the Three-G rule (Get Down, Get Caught, Get Out), which are taught to children in New Zealand from the age of 3, First lean ...

Fire always ferries upwards Adds. Gate Crowl ...

knees go out ... get out ...

search the windows or door in the brain, which can go out, move on to the same side as some children did jumped up the window and saw ...

Even if they are in the hospital but are not saved alive. But here too, they were not able to understand that they are wearing jeans ... they are counted among the world's strongest garments ... some joints can be made by adding ropes to each other. We can not teach them that with the help of the rings of the scooter-bike in their hands, they can convert the two jeans into a rope ... there are many knots that the climbers cross the Himalayas and then descend from the top There are also ... some of the plays, we must teach our children in homes in schools. In Surat incident, the children were jittery jumping ... maybe jumping with a little quiet mind, the engine was short. They could alternate jump one by one. The crowd below also had the ease of catching the children. Multiple injuries would have been less, our own children Today you will feel with my things ... I am distributing the knowledge ... but if you see the video of tomorrow's accident, then you will understand that a well-intentioned person has tried to save the children. He could save the two children but the nervous girl could not keep herself calm and ... remember well, Papaji used to say that Mona never got trapped in the fire, first of all, to take off the clothes and throw it, do not think What would you say because of the fire in the upper clothes grips fast. After burning, he sticks with a lot of grief and hardships ... If you are drowning in water then restrain yourself ... stop breathing ... then take down the clothes from the waist because it is mixed with water Become heavy, you'll sink. When people came to life then what would people say that do not worry ... what you can do is just think of it.

The children who can not survive, they are being moved by thinking of their parents. A senior partner of mine said long ago ... the child has started going to school by bicycle until he returns home, the mind is nervous. At that time I could not understand their point of view ... When there were Ayusha understood that you have the power to conquer the world, the dread of your child also makes you unbearable ... This article means only that we all Remember the story of a Hindi textbook ...

In which a pundit was picked up in the boat with potholes ... he was explaining to the sailor, because of not having 'letter knowledge- Brahma jnana', he can not stand by the Bhavsagar ... after that when his boat starts drowning in the middle Pandit's pawns did not save them. The poor sailor saves them from drowning, shakes the edge. We are also engaged in making our children just a pundit .... They should also make a sailor with the Pandit who can defend themselves in the boat and themselves. Leave the expectation from the government ...

By submitting four inquiries, the issue will be dropped in the cold storage by distributing some compensation. Coaching institutions who grow up like foes will not change Such kind of accidents have been happening ...

May be even further ...

 Rescue is the only one who gives us the life skills Sikh





सूरत में हुए हादसे के बहाने जानिए सीरत अपनी
21 बच्चे हमेशा के लिए सो गए फिर भी हम नहीं जागेंगे, हैं ना...

"कुछ विषय ऐसे होते हैं जिनपर लिखना खुद की आत्मा पर कुफ्र तोड़ने जैसा है, सूरत की बिल्डिंग में आग...21 बच्चों की मौत...आग और घुटन से घबराए बच्चों को इससे भयावह वीडियो आज तक नहीं देखा....इससे ज्यादा छलनी मन और आत्मा आज तक नहीं हुई....

 हम सब गलत हैं, सारे कुएं में भांग पड़ी हुई है।

हमने किताबी ज्ञान में ठूंस दिया बच्चों को नहीं सिखा पाए लाइफ स्किल।

नहीं सिखा पाए डर पर काबू रख शांत मन से काम करना।"

मम्मा डर लग रहा है...एग्जाम के लिए सब याद किया था लेकिन एग्जाम हॉल में जाकर भूल गया...कुछ याद ही नहीं आ रहा था। पांव नम थे...हाथों में पसीना था...आप दो मिनिट उसे दुलारते हैं...बहलाने की नाकाम कोशिश करते हैं फिर पढ़ लो- पढ़ लो- पढ़ लो की रट लगाते हैं। सुबह 8 घंटे स्कूल में पढ़कर आए बच्चे को फिर 4-5 घंटे की कोचिंग भेज देते हैं। जिंदगी की दौड़ का घोड़ा बनाने के लिए, असलियत में हम उन्हें चूहादौड़ का एक चूहा बना रहे हैं। नहीं सिखा पा रहे जीने का तरीका- खुश रहने का मंत्र...साथ ही नहीं सिखा पा रहे लाइफ स्किल। विपरीत परिस्थितियों में धैर्य और शांतचित्त होकर जीवन जीने की कला नहीं सिखा पा रहे हैं ना और इसके लिए सिर्फ और सिर्फ हम पालक और हमारा समाज जिम्मेदार है। आयुष को पांच साल की उम्र में मैं न्यूजीलैंड ले गई थी...9 साल की उम्र में वापस इंडिया ले आई थी...वहां उसे नर्सरी क्लास से फस्टटेड से लेकर आग लगने पर कैसे खुद का बचाव करें...फीलिंग सेफ फीलिंग स्पेशल ( चाइल्ड एब्यूसमेंट), पानी में डूब रहे हो तो कैसे खुद को ज्यादा से ज्यादा देर तक जीवित और डूबने से बचाया जा सके.... जैसे विषय हर साल पढ़ाए जाते थे। फायरफाइटिंग से जुड़े कर्मचारी और अधिकारी हर माह स्कूल आते थे। बच्चों को सिखाया जाता था विपरीत परिस्थितियों में डर पर काबू रखते हुए कैसे एक्ट किया जाए। ह्यूमन चेन बनाकर कैसे एक-दूसरे की मदद की जाए.....हेल्पिंग हेंड से लेकर खुद पर काबू रखना ताकि मदद पहुंचने तक आप खुद को बचाए रखें....

हम नहीं सिखा पा रहे यह सब....नहीं दे पा रहे बच्चों को लाइफ स्किल का गिफ्ट...

विपरीत परिस्थितियों से बचना....कल की ही घटना देखिए...हमारे बच्चे नहीं जानते थे कि भीषण आग लगने पर वे कैसे अपनी और अपने दोस्तों की जान बचाएं....

नहीं सीखा हमारे बच्चों ने थ्री-G का रूल ( गेट डाउन, गेट क्राउल, गेट आऊट ) जो 3 साल की उम्र से न्यूजीलैंड में बच्चों को सिखाया जाता है, आग लगे तो सबसे पहले झुक जाएं...

आग हमेशा ऊपर की ओर फैलती है।

गेट क्राउल...घुटनों के बल चले...

गेट आऊट...

वो विंडों या दरवाजा दिमाग में खोजे जिससे बाहर जा सकते हैं, उसी तरफ आगे बढ़े, जैसा कुछ बच्चों ने किया, खिड़की देख कर कूद लगा दी... भले ही वे अभी हास्पिटल में हो  लेकिन जिंदा जलने से बच गए। लेकिन यहां भी वे नहीं समझ पा रहे थे कि वे जो जींस पहने हैं...वह दुनिया के सबसे मजबूत कपड़ों में गिनी जाती है...कुछ जींस को आपस में जोड़कर रस्सी बनाई जा सकती है। नहीं सिखा पाए हम उन्हें कि उनके हाथ में स्कूटर-बाइक की जो चाबी है उसके रिंग की मदद से वे दो जींस को एक रस्सी में बदल सकते हैं...काफी सारी नॉट्स हैं जिन्हें बांधकर पर्वतारोही हिमालय पार कर जाते हैं

फिर चोटी से उतरते भी हैं...वही कुछ नाट्स तो हमें स्कूलों में घरों में अपने बच्चों को सिखानी चाहिए। सूरत हादसे में बच्चे घबराकर कूद रहे थे...शायद थोड़े शांत मन से कूदते तो इंज्युरी कम होती। एक-एक कर वे बारी-बारी जंप कर सकते थे। उससे नीचे की भीड़ को भी बच्चों को कैच करने में आसानी होती। मल्टीपल इंज्युरी कम होती, हमारे अपने बच्चों को। आज आपको मेरी बातों से लगेगा...ज्ञान बांट रही हूं...लेकिन कल के हादसे के वीडियो को बार-बार देखेंगे तो समझ में आएगा एक शांतचित्त व्यक्ति ने बच्चों को बचाने की कोशिश की। वो दो बच्चों को बचा पाया लेकिन घबराई हुई लड़की खुद को संयत ना रख पाई और .... अच्छे से याद है, पापाजी कहते थे मोना कभी आग में फंस जाओ तो सबसे पहले अपने ऊपर के कपड़े उतार कर फेंक देना, मत सोचना कोई क्या कहेगा क्योंकि ऊपर के कपड़ों में आग जल्दी पकड़ती है। जलने के बाद वह जिस्म से चिपक कर भीषण तकलीफ देते हैं...वैसे ही यदि पानी में डूब रही हो तो खुद को संयत करना...सांस रोकना...फिर कमर से नीचे के कपड़े उतार देना क्योंकि ये पानी के साथ मिलकर भारी हो जाते हैं, तुम्हें सिंक (डुबाना) करेंगे। जब जान पर बन आए तो लोग क्या कहेंगे कि चिंता मत करना...तुम क्या कर सकती हो सिर्फ यह सोचना।

जो बच्चे बच ना पाए, उनके माँ बाप का सोच कर दिल बैठा जा रहा है। मेरे एक सीनियर साथी ने बहुत पहले कहा था...बच्चा साइकिल लेकर स्कूल जाने लगा है, जब तक वह घर वापस नहीं लौट आता...मन घबराता है। उस समय मैं उनकी बात समझ नहीं पाई थी...जब आयुष हुए तब समझ आया आप दुनिया फतह करने का माद्दा रखते हो अपने बच्चे की खरोच भी आपको असहनीय तकलीफ देती है...इस लेख का मतलब सिर्फ इतना ही है कि हम सब याद करे हिंदी पाठ्यपुस्तक की एक कहानी...

जिसमें एक पंडित पोथियां लेकर नाव में चढ़ा था...वह नाविक को समझा रहा था 'अक्षर ज्ञान- ब्रह्म ज्ञान' ना होने के कारण वह भवसागर से तर नहीं सकता...उसके बाद जब बीच मझधार में उनकी नाव डूबने लगती है तो पंडित की पोथियां उन्हें बचा नहीं पाती। गरीब नाविक उन्हें डूबने से बचाता है, किनारे लगाता है। हम भी अपने बच्चों को सिर्फ पंडित बनाने में लगे हैं....उन्हें पंडित के साथ नाविक भी बनाइए जो अपनी नाव और खुद  का बचाव स्वयं कर सकें। सरकार से उम्मीद लगाना छोड़िए ... चार जांच बैठाकर, कुछ मुआवजे बांटकर मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया जाएगा। कुकुरमुत्ते की तरह उग आए कोचिंग संस्थान ना बदलेंगे। 

इस तरह के हादसे होते रहे हैं...

आगे भी हो सकते हैं....

बचाव एक ही है हमें अपने बच्चों को जो लाइफ स्किल सिख



AeroSoft Corp