Thursday, 4 April 2019

Pundit Ji Ki Marketing



यजमान-  पंडितजी, बेटे ने 10 पास कर ली हैं बताए कौन सा क्षेत्र इसके लिए अच्छा रहेगा।

पंडित जी- इसकी पत्रिका मे सी ए बनने के योग हैं इसे सी ए बनाए।
पंडित जी की दक्षिणा 200/ परंतु दक्षिणा केवल 51/रु दी गयी।

सन् 2010 –
यजमान - पंडित जी , आपकी कृपा से बेटा सी ए बन गया हैं आपने बताया भी था। अब ज़रा नौकरी के विषय मे भी बता देते।

पंडितजी – इसे आगामी माह मे नौकरी मिल जानी चाहिए बस ये एक छोटा सा उपाय करवा दीजिएगा।
पंडितजी की दक्षिणा -500/परंतु दक्षिणा 101 रु दी गयी ???
अगले माह 30,000 रु प्रति माह की नौकरी भी प्राप्त हो गयी।

सन् 2013 –
यजमान- पंडितजी बेटा विवाह नहीं कर रहा हैं ?

पंडितजी - इसकी पत्रिका मे प्रेमविवाह की संभावना हैं संभवत: इसी कारण विवाह करने मे आना कानी कर रहा हो , प्यार से बैठा कर पूछिये कोई लड़की पसंद होगी जिस कारण ऐसा हो रहा हैं |

यजमान- पंडित जी लड़की पसंद बताता तो हैं क्या करे??
पंडित जी- उसी कन्या से उसका विवाह कर दीजिये सही रहेगा,हो सके तो उस कन्या की पत्रिका दिखा दीजिएगा
पंडितजी की दक्षिणा 1001/ परंतु दक्षिणा 200 रु दी गयी |

सन् 2015 –

यजमान-  पंडितजी आपकी दया से बेटा 70,000 रु प्रति माह कमा रहा हैं , शादी भी हो गयी हैं।
एक बेटी भी हैं, बेटा कब होगा यह बताए ???

पंडितजी- इसकी पत्रिका मे गुरु ग्रह का श्राप हैं जिस कारण बेटे का होना मुश्किल जान पड़ता हैं।

यजमान- हैं ऐसा कैसे पंडितजी हमने या हमारे किसी भी बुजुर्ग ने कभी भी किसी ब्राह्मण,विद्वान तथा गुरु का अपमान नहीं किया हैं गुरु ग्रह का श्राप कैसे लग सकता हैं “

पंडितजी – इसके पूर्वजो ने अपने पंडित को कभी भी पंडित के कार्य का दक्षिणा नहीं दिया जिस कारण ऐसा हैं।

नही - नहीं पंडितजी,,  आपसे देखने मे ग़लती हो रही हैं।

पंडितजी –सही कह रहे हैं आप....

हमसे देखने मे ही ग़लती हो रही होगी यह बेटा जब 10वी मे था और अब 70,000 रुपये प्रति माह कमा रहा हैं।
शादी, बच्चा भी हो गया परंतु पंडित जी को अब तक आपने 352 रुपये ही दिये हैं शायद आपके पिता ने भी आपके लिए ऐसा ही किया होगा जिस कारण ऐसा हो रहा हैं।

ये कटु सत्य है पिछले 20 साल में महंगाई कहाँ से कहाँ पहुँच गयी लेकिन नही बढ़ा तो पण्डित की दक्षिणा ........? 

लोग आज भी बड़े बड़े पूजा अनुष्ठान के संकल्प और आरती में चढ़ाने के लिये एक रूपये का सिक्का ही ढूंढ कर लाते है।

नोट-  कुछ दिन ऐसा दिन आने वाला है की ब्राह्मण इस पूजा पाठ के कार्य को छोड़ देगा लोग की ऐसी मानसिकता रही तो कुछ दिन में कोई ब्राह्मण दान भी नही लेगा, और  ये मानसिकता समाज  छोड़ दे की ब्राह्नण कभी गरीब था भागवतपुराण  में साफ लिखा है की पृथ्वी का एक मात्र देवता ब्राह्मण है ,

        आज लोग इसलिये इतना कष्ट भोग रहे है की लोग ब्राह्मण को घटिया से घटिया सामग्री , अनुपयोगी वस्त्र दान और उचित दक्षिणा नहीं दे रहे है, कुछ ही वर्षो में ब्राह्मण का दर्शन दुर्लभ हो जायेगा ऐसा बहुत जल्द होने वाला है और जो पूजा करवाऐंगे वो किसी भी तरह के लोग होंगे होंगे।

शादी में लोग  10-12 लाख रुपये सिर्फ शानौशौकत के लिए उड़ा देंगे। ढोली बैंडबाजे वाले को छः महिने पहले  बुक करके 21-31000 हजार रुपए एक डेढ घंटे के लिये दे देंगे । डीजे व शराब में बर्बाद करके अपनी ही बहन बेटियों को नचायेंगे और ये सारा मांगलिक मुहूर्त कार्यक्रम तय करने वाले ब्राह्मण पंडित को जो इसका रचनाकार और धूरी है उस विप्र श्रेष्ठ को 1100 रुपए में ही निपटाने का भरसक प्रयास करेंगे।  तब कौन ब्राह्मण का पुत्र यह संस्कार अपनायेगा ???

🙏🙏कृपया अन्यथा न लें .. मेरी बातों का गलत मतलब न समझें। ब्राह्मण और ज्योतिषी हमारे समाज के सम्माननीय व्यक्ति हैं, इनको सम्मान दें। 👏👏


Payments : 

Join  Google Pay, a payments app by Google. Enter our Code ( 59wc92 
and then make a payment. We'll each get ₹51!

Click here



Enter   Code  59wc92











The host- Panditji, son has passed 10, as mentioned, which area will be good for this.

Pandit ji- It's the essence of becoming a journal of its magazine, making it a C.A.
Pandit ji's Dakshina 200 / Dakshina was given only Rs 51 / rupees.

2010 -
The host - Pandit ji, by your grace son became a si, you had told me too. Now tell me about the job.

Panditji - It should get a job in the coming month. Just give it a small solution.
Panditji's Dakshina-500 / Dakshina Rs 101 is given ???
The next month also got a job of 30,000 rupees per month.

2013 -
The host - son of the son is not married?

Panditji - There is a possibility of love marriage in its journal. Probably because of this, you are talking about getting married, lovingly, ask a girl, which will be the reason why this is happening.

Host- If the girl tells the girl what she likes, then what?
Pandit ji - marry her to the same girl, she will be right, if possible, will show the girl's magazine
Panditji's Dakshina 1001 / Dakshina Rs 200 was given.

2015 -
The host- Panditji is earning Rs 70,000 per month by your kindness, marriage has also been done.
There is a daughter too, when will the son tell me ???

Panditji - The curse of the master planet in its journal, which makes it difficult for the son to be.
The host - how can such a Panditji or any of our elderly have never insulted any Brahmin, scholar and guru, how can a curse of a master planet seem to be "

Panditji - Its ancestors never gave a dakshina to the Pandit's work, which is why it is so.

No, no, Panditji, you are making a mistake in seeing me.

Panditji - Saying you are ....
It would be a mistake to see us, when this son was in 10th and now earning 70,000 rupees per month. The marriage, the child also happened but you have given Rs 352 to Pandit, so maybe your father has done the same for you, which is why this is happening.
It is a bitter truth that where inflation has reached from the last 20 years, but does not increase then Dakshina of Pandit ........?

Even today, people bring a rupee coin of the highest puja ritual to the resolution and aarti.

Note- Some days is going to come that the Brahmin will abandon the work of this worship, if the people have such a mentality then in some days no Brahmin will donate too, and this mindset will leave the society, that the Brahmin was never poorly written in Bhagwatpuran Is that the only God of the earth is a Brahmin,

        Today people are suffering so much that people are not giving Brahmin the poor material, rendering useless clothes and not giving proper dakshina, in a few years the philosophy of Brahmin will become rare, it is going to be very soon and those who worship will have any There will also be people of different kinds.

In the marriage, people will give 10-12 lakh rupees only for fame. By booking the dhali bandabaje six months ago, we will give 21-31000 thousand rupees for one and a half hours. Due to waste in DJ and liquor, it will take away the daughters of their sisters, and they will make every effort to settle the welfare of the Brahmin priest who is designing this manglik muhurt program, which is its creator and Dhuri in the Rs. 1100. Then who will adopt this sacrament of Brahmin's son ???

🙏🙏Please do not take it otherwise. Do not misunderstand my point of view. Brahmins and astrologers are honorable people of our society, respect them. 👏👏


https://www.amazon.in/s?i=stripbooks&rh=p_27%3ACapt+Shekhar+Gupta&ref=dp_byline_sr_book_1


Pilot's Career Guide
by Capt Shekhar Gupta and Niriha Khajanchi | 1 January 2017
4.0 out of 5 stars5
Cabin Crew Career Guide, Path to Success
by Pragati Srivastava and Capt. Shekhar Gupta | 1 January 2018
5.0 out of 5 stars3
All Best Career Guide
by Capt Shekhar Gupta and Shina Kalra | 1 January 2019
5.0 out of 5 stars1

No comments:

Post a comment