Saturday, 27 April 2019

Remove the curtain of Stupidity

जस्टिज काटजू ने कहा था कि 90% भारतीय मूर्ख हैं, और ये बात आज सच भी लग रही है...

Judge Katju had said that 90% Indians are fools, and this thing seems to be true today ...

Understand

The scale of our foolishness is that a man wearing suit-boots of millions of rupees says that I am poor and we consider him as poor.

 Agencies like CBI, NIA, the man who is a puppet in the hands of a man is saying that "I am being persecuted" and we accept it.

In the absolute majority in the parliament, there is a government in more than 20 states including the President, he says "I am not being allowed to work" and we accept it.

The person who gives ticket to people living in jail by corruption and then says, "I am fighting against corruption" and we accept it.

❗The most soldiers who have been martyred during the rule of their rule say that "the enemy is trembling with us" and we accept it.

In which time most farmers have committed suicide and they say "we have doubled the income of farmers" and we accept it.

In which time the educated youth are asked to lay pakora and we consider him a job.

❗ In which Raj is being raped the most and he says we are running "Beti Bachao Abhiyan" and we accept it.

Who has come to power by dreaming of a beautiful future and is turning us around in the past 400 years ago and still we are happy to come to him.

Friends, all this is due to our stupidity ... ☺

Remove the curtain of Stupidity







जस्टिज काटजू ने कहा था कि 90% भारतीय मूर्ख हैं, और ये बात आज सच भी लग रही है...

समझिए-

❗हमारी मूर्खता का पैमाना ये है कि एक आदमी लाखों रुपए के सूट-बूट पहनकर कहता है कि मैं ग़रीब हूं और हम उसे ग़रीब मान लेते हैं..

❗CBI, NIA जैसी एजेंसियां जिस आदमी के हाथों की कठपुतली हैं वो आदमी कह रहा है कि "मुझे सताया जा रहा है" और हम मान लेते हैं..

❗जो संसद मे पूर्ण बहुमत में है, राष्ट्रपति समेत 20 से ज्यादा राज्यों में सरकार है, वो कहता है "मुझे काम नहीं करने दिया जा रहा" और हम मान लेते हैं..

❗जो आदमी भ्रष्टाचार करके जेल में रह चुके लोगों को टिकट देता है, फिर कहता है "मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहा हूं" और हम मान लेते हैं..

❗जिसके शासन में सबसे ज्यादा सैनिक शहीद हुए हैं वो कहता है "दुश्मन हमसे कांप रहा है" और हम मान लेते हैं..

❗जिसके समय में सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है और वो कहता है "हमने किसानों की आय दोगुनी कर दी है" और हम मान लेते हैं..

❗जिसके समय में पढ़े-लिखे नौजवानों को पकौड़ा तलने के लिए कहा जाता है और हम उसे रोज़गार मान लेते हैं..

❗जिसके राज में सबसे ज्यादा बलात्कार हो रहे हैं और वो कहता है हम "बेटी बचाओ अभियान" चला रहे हैं और हम मान लेते हैं..

❗जो सुंदर भविष्य का सपना दिखाकर सत्ता में आया हो और 400 साल पहले के भूतकाल में हमें घुमा रहा हो और फिर भी हम उसकी बातों में आकर खुश हैं..



 ये सब हमारी मूर्खता की वजह से ही तो हो रहा है...☺ 

मूर्खता का पर्दा हटाइए











No comments:

Post a comment