Sunday, 7 July 2019

A Painter and a Boat

A man called a painter to his house, and showed his boat and said, paint it!

He took painter paints and painted that boat, as red as the owner of the boat wanted.

Then the painter took his money and went away!

The next day, the owner of the boat reached the painter's house, and he paid a huge amount of money to that painter!

The painter got confused, and asked - what is this money for? My money was given to you yesterday!

The owner said - this is not the money of the paint, but it is the money to repair the "hole" in that boat!

Painter said - Hey Sahab, he was a small hole, so I stopped. So much money for that little hole, I'm not feeling well!

The owner said - Dude, you do not understand my thing! I explain in detail in detail. When I told you to paint, then forgot to tell you in a hurry that repair a boat in the boat!

 And when the paint dried up, my two children left the boat in the sea for sailing!

I was not at home at that time, but when I came back and heard from my wife that the children have gone on sailing with the boat!

 So i got screwed Because I remember that there is a hole in the boat!

I fell down on that side, where my dear children went. But I was able to see my children a little while, who were coming back safely!

Now you can understand my happiness and happiness!

Then I checked the hole, then it came to know that, without telling me you have repaired it!
So my friends are so little for this great work!

I am not an ordinary person, I can pay you just fine for that work!

The "work of goodness" in life should be done whenever the opportunity is made, even if it is a very small task!

Because sometimes that small work can be very invaluable for anyone.

Heartfelt thanks to all the friends who have repaired the 'boat of our lives'
And always try that we should always be ready to do the repair of someone's name ....

🙏😃


एक आदमी ने एक पेंटर को बुलाया अपने घर, और अपनी नाव दिखाकर कहा कि इसको पेंट कर दो !

वह पेंटर पेंट ले क र उस नाव को पेंट कर दिया, लाल रंग से जैसा कि नाव का मालिक चाहता था।

फिर पेंटर ने अपने पैसे लिए और चला गया !

अगले दिन, पेंटर के घर पर वह नाव का मालिक पहुँच गया, और उसने एक बहुत बड़ी धनराशी का चेक दिया उस पेंटर को !

पेंटर भौंचक्का हो गया, और पूछा - ये किस बात के इतने पैसे हैं ?

मेरे पैसे तो आपने कल ही दे दिया था !

मालिक ने कहा - ये पेंट का पैसा नहीं है, बल्कि ये उस नाव में जो "छेद" था, उसको रिपेयर करने का पैसा है !

पेंटर ने कहा - अरे साहब, वो तो एक छोटा सा छेद था, सो मैंने बंद कर दिया था। उस छोटे से छेद के लिए इतना पैसा मुझे, ठीक नहीं लग रहा है !

मालिक ने कहा - दोस्त, तुम समझे नहीं मेरी बात !अच्छा में विस्तार से समझाता हूँ। जब मैंने तुम्हें पेंट के लिए कहा तो जल्दबाजी में तुम्हें ये बताना भूल गया कि नाव में एक छेद है उसको रिपेयर कर देना !

 और जब पेंट सूख गया, तो मेरे दोनों बच्चे उस नाव को समुद्र में लेकर नौकायन के लिए  निकल गए !

मैं उस वक़्त घर पर नहीं था, लेकिन जब लौट कर आया और अपनी पत्नी से ये सुना कि बच्चे नाव को लेकर नौकायन पर निकल गए हैं !

 तो मैं बदहवास हो गया। क्योंकि मुझे याद आया कि नाव में तो छेद है !

मैं गिरता पड़ता भागा उस तरफ, जिधर मेरे प्यारे बच्चे गए थे। लेकिन थोड़ी दूर पर मुझे मेरे बच्चे दिख गए, जो सकुशल वापस आ रहे थे !

अब मेरी ख़ुशी और प्रसन्नता का आलम तुम समझ सकते हो !

फिर मैंने छेद चेक किया, तो पता चला कि, मुझे बिना बताये तुम उसको रिपेयर कर चुके हो !
तो मेरे दोस्त उस महान कार्य के लिए तो ये पैसे भी बहुत थोड़े हैं !

मेरी औकात नहीं कि उस कार्य के बदले तुम्हे ठीक ठाक पैसे दे पाऊं !

जीवन मे "भलाई का कार्य" जब मौका लगे हमेशा कर देना चाहिए, भले ही वो बहुत छोटा सा कार्य ही क्यों न हो !

क्योंकि कभी कभी वो छोटा सा कार्य भी किसी के लिए बहुत अमूल्य हो सकता है।

सभी मित्रों को जिन्होने 'हमारी जिन्दगी की नाव' कभी भी रिपेयर की है उन्हें हार्दिक धन्यवाद .....

और सदैव प्रयत्नशील रहें कि हम भी किसी की नाव रिपेयरिंग करने के लिए हमेशा तत्पर रहें ....

🙏😃

No comments:

Post a comment