Tuesday, 8 October 2019

Test of Great Nationalism and Era

मुर्गी अंडे दे रही थी और मालिक बेंच रहा था। 
मुर्गी देशहित में अंडे दे रही थी।


उसके मालिक ने कहा था-

’’ आज राष्ट्र को तुम्हारे अंडों की जरूरत है। 

यदि तुम चाहती हो कि तुम्हारा घर सोने का बन जाये तो जम के अंडे दिया करो। आज तक तुमसे अंडे तो लिये गये लेकिन तुम्हारा घर किसी ने सोने का नही बनवाया। हम करेंगे। तुम्हारा विकास करके छोड़ेंगे।’’

मुर्गी खुशी से नाचने लगी। 

उसने सोचा देश को मेरी भी जरूरत पड़ती है। 
वाह मैं एक क्या कल से दो अंडे दूंगी। 
देश है तो मैं हूं। 
वह दो अंडे देने लगी।
मालिक खुश था। 
अंडे बेचकर खूब पैसे कमा रहा था। 
मालिक निहायत लालची सेठ था।
उसने मुर्गी की खुराक कम कर दी। 
मुर्गी चौंकी। -’’ आज मुझे पर्याप्त खुराक नहीं दी गई। कोई समस्या है क्या ?’’ 

-’’ देश आज संकट में है। किसी भी मुर्गी को पूरा अन्न खाने का हक नहीं। जब तक एक भी मुर्गी भूखी है मैं खुद पूरा आहार नहीं लूंगी। हम देश के लिए संकट सहेंगे।’’ 
मुर्गी आधा पेट खाकर अंडे देने लगी। मालिक अंडे बेचकर अपना घर भर रहा था। 

बरसात में मुर्गी का घर नहीं बन पाया। 

मुर्गी बोली- आप मेरे सारे अंडे ले रहे हैं। मुझे आधा पेट खाने को दे रहे है। कहा था कि घर सोने का बनेगा। नहीं बना। मेरे घर की मरम्मत तो करवा दो। 

मालिक भावुक हो गया। 

बोला "तुमने कभी सोचा है इस देश में कितनी मुर्गियां हैं जिनके सर पर छत नहीं हैं। रात-रात भर रोती रहती हैं। तुम्हें अपनी पड़ी है। तुम्हें देश के बारे में सोचना चाहिए। अपने लिए सोचना तो स्वार्थ है।’’

मुर्गी चुप हो गई। देशहित में मौन रहने में ही उसने भलाई समझी।

अब वह अंडे नहीं दे पा रही थी।

कमजोर हो गई थी। 

न खाने का ठिकाना न रहने का।

वह बोलना चाहती थी लेकिन भयभीत थी। 
वह पूछना चाहती थी-

"इतने पैसे जो जमा कर रहे हो- वह क्यों और किसके लिए?
देशहित में कितना लगाया है?"

लेकिन पूछ नहीं पाई।

एक दिन मालिक आया और बोला- ’’ मेरी प्यारी मुर्गी तुझे देशहित में मरना पड़ेगा। देश तुमसे बलिदान मांग रहा है। तुम्हारी मौत हजारों मुर्गियों को जीवन देगा।’’ 

 मुर्गी बोली "लेकिन मालिक मैने तो देश के लिय बहुत कुछ किया है,"

मालिक ने कहा अब तुम्हे शहीद होने पड़ेगा। 

बेचारी मुर्गी को अब सब कुछ समझ आ गया था

लेकिन अब वक्त जा चुका था और मुर्गी कमज़ोर हो चुकी थी, मालिक ने मुर्गी को बेच दिया।


मुर्गी किसी बड़े भूखे सेठ के पेट का भोजन बन चुकी थी।

मुर्गी देशहित में शहीद हो गई.🐔🙊🙈

(नोट- जो आप सोच रहे हैं ऐसा बिल्कुल भी नही है। 
ये सिर्फ एक मुर्गी की कहानी है।
युवा बेरोजगारों, किसानों ,मध्यवर्गीय नागरिकों, मजदूरों,गरीबों , कर्मचारियों को और अधिक उन्मादी होकर राष्ट्रभक्ति में बिना चू चप्पड़ किये देशी नेताओ और कॉरपोरेट्स की तिजोरी भरना महान राष्ट्रभक्ति और युगधर्म की कसौटी है। 

🙏🙏🙏🙏🙏

https://crazy-guru.anxietyattak.com/2019/10/test-of-great-nationalism-and-era.html



The hen was laying eggs and the owner was selling.
The hen was laying eggs in the national interest.
His boss said-
"Today the nation needs your eggs."
If you want your house to be made of gold, then set the eggs free. Till date eggs have been taken from you but nobody has built your house to sleep. we will do. You will grow and leave. "
The hen danced happily.
He thought that the country needs me too.
Wow I will give two eggs from tomorrow.
I am a country
She started laying two eggs.
The owner was happy.
Was earning a lot of money by selling eggs.
The owner was extremely greedy.
He reduced the hen dose.
Chicken outpost - "I am not given enough food today. is there any problem ?''
"The country is in crisis today. No chicken has the right to eat whole grains. As long as a single chicken is hungry, I will not take the whole food myself. We will bear the crisis for the country. "
The hen ate half its stomach and started laying eggs. The owner was filling his house by selling eggs.
In the rainy hen's house could not be built.
Hen said - you are taking all my eggs. Giving me half a stomach to eat. It was said that the house will be made of gold. Not made Get my house repaired.
The owner became emotional.
Said "Have you ever thought how many chickens are in this country, which do not have roofs on their heads. They cry all night and night. You are lying on your own. You should think about the country. It is selfish to think for yourself."
The hen became silent. He considered it good to remain silent in the interest of the country.
Now she was unable to lay eggs.
Was weakened.
There is no where to eat or not.
She wanted to speak but was afraid.
She wanted to ask-
"Who is depositing so much money - why and for whom?
How much is it in the national interest? "
But could not ask.
One day the owner came and said- "My dear hen you will have to die in the interest of the country." The country is asking for your sacrifice. Your death will give life to thousands of chickens. "
 Hen said "But the owner, I have done a lot for the country."
The owner said, now you have to be martyred.
Poor chicken now understood everything
But now the time was gone and the chicken was weak, the owner sold the chicken.
The chicken had become the food of the stomach of a big hungry Seth.
The chicken was martyred in the national interest.
(Note- This is not at all what you are thinking.
This is just the story of a chicken.

To fill the coffers of indigenous leaders and corporates without slipping into the patriotism of the young unemployed, peasants, middle class citizens, laborers, poor, employees and more is a test of great nationalism and era.


उसके मालिक ने कहा था-
’’ आज राष्ट्र को तुम्हारे अंडों की जरूरत है।
यदि तुम चाहती हो कि तुम्हारा घर सोने का बन जाये तो जम के अंडे दिया करो। आज तक तुमसे अंडे तो लिये गये लेकिन तुम्हारा घर किसी ने सोने का नही बनवाया। हम करेंगे। तुम्हारा विकास करके छोड़ेंगे।’’
मुर्गी खुशी से नाचने लगी।
उसने सोचा देश को मेरी भी जरूरत पड़ती है।
वाह मैं एक क्या कल से दो अंडे दूंगी।
देश है तो मैं हूं।
वह दो अंडे देने लगी।
मालिक खुश था।
अंडे बेचकर खूब पैसे कमा रहा था।
मालिक निहायत लालची सेठ था।
उसने मुर्गी की खुराक कम कर दी।
मुर्गी चौंकी। -’’ आज मुझे पर्याप्त खुराक नहीं दी गई। कोई समस्या है क्या ?’’
-’’ देश आज संकट में है। किसी भी मुर्गी को पूरा अन्न खाने का हक नहीं। जब तक एक भी मुर्गी भूखी है मैं खुद पूरा आहार नहीं लूंगी। हम देश के लिए संकट सहेंगे।’’
मुर्गी आधा पेट खाकर अंडे देने लगी। मालिक अंडे बेचकर अपना घर भर रहा था।
बरसात में मुर्गी का घर नहीं बन पाया।
मुर्गी बोली- आप मेरे सारे अंडे ले रहे हैं। मुझे आधा पेट खाने को दे रहे है। कहा था कि घर सोने का बनेगा। नहीं बना। मेरे घर की मरम्मत तो करवा दो।
मालिक भावुक हो गया।
बोला "तुमने कभी सोचा है इस देश में कितनी मुर्गियां हैं जिनके सर पर छत नहीं हैं। रात-रात भर रोती रहती हैं। तुम्हें अपनी पड़ी है। तुम्हें देश के बारे में सोचना चाहिए। अपने लिए सोचना तो स्वार्थ है।’’
मुर्गी चुप हो गई। देशहित में मौन रहने में ही उसने भलाई समझी।
अब वह अंडे नहीं दे पा रही थी।
कमजोर हो गई थी।
न खाने का ठिकाना न रहने का।
वह बोलना चाहती थी लेकिन भयभीत थी।
वह पूछना चाहती थी-
"इतने पैसे जो जमा कर रहे हो- वह क्यों और किसके लिए?
देशहित में कितना लगाया है?"
लेकिन पूछ नहीं पाई।
एक दिन मालिक आया और बोला- ’’ मेरी प्यारी मुर्गी तुझे देशहित में मरना पड़ेगा। देश तुमसे बलिदान मांग रहा है। तुम्हारी मौत हजारों मुर्गियों को जीवन देगा।’’
 मुर्गी बोली "लेकिन मालिक मैने तो देश के लिय बहुत कुछ किया है,"
मालिक ने कहा अब तुम्हे शहीद होने पड़ेगा।
बेचारी मुर्गी को अब सब कुछ समझ आ गया था
लेकिन अब वक्त जा चुका था और मुर्गी कमज़ोर हो चुकी थी, मालिक ने मुर्गी को बेच दिया।
मुर्गी किसी बड़े भूखे सेठ के पेट का भोजन बन चुकी थी।
मुर्गी देशहित में शहीद हो गई.🐔🙊🙈
(नोट- जो आप सोच रहे हैं ऐसा बिल्कुल भी नही है।
ये सिर्फ एक मुर्गी की कहानी है।
युवा बेरोजगारों, किसानों ,मध्यवर्गीय नागरिकों, मजदूरों,गरीबों , कर्मचारियों को और अधिक उन्मादी होकर राष्ट्रभक्ति में बिना चू चप्पड़ किये देशी नेताओ और कॉरपोरेट्स की तिजोरी भरना महान राष्ट्रभक्ति और युगधर्म की कसौटी है।

🙏🙏🙏🙏🙏
=======================

Successful Women Entrepreneurs
Public group · 5 members
Join Group
Successful Women Entrepreneurs of India Hello, Most Successful Female Entrepreneurs of India We are Connecting Indian Women Entrepreneurs, Start-...

No comments:

Post a comment