Monday, 18 January 2021

The Most Safest Place for Arnab is Jail

The Most Safest Place for Arnab is Jail

पूछता है भारत

* Now the Maharashtra government does not even have to ask the court for arrest of Arnab on the charge of violation of section 5 of the Official Secret Act 1923 *

* It is a game of the hour * * Till yesterday, there was Arnab Goswami, who used to Puchhta Hai Bharat [say- asks India ]* * India asks for accounts today * * Computation of serious charges like treason, leaking intelligence, making them public and helping anti-nationals * * It is certain that the harder the inquiry, the more truth will be revealed Arnab Goswami * * Arnab, who claimed to play on the lap of the highest executive post of the country, will now have to prove his own claim to be true * * The more mouths Arnab opens, the more the political parties will get entangled, trapped. Even if it is Modi, Doval and AS * * A journalist has a lot of intelligence. Minutes of meeting, diary and all papers * * Arnab is called a journalist, a party or a boarder, but one thing is clear. No one belongs to the government * * Arnab's life is most vulnerable at this time * * Maharashtra government would also know this * * So the safest place for Arnab is Jail * 

https://bit.ly/3o0YCfw

पूछता है भारत





*ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट 1923 के सेक्शन 5 के उल्लंघन के आरोप में अर्नब की गिरफ़्तारी के लिए अब महाराष्ट्र सरकार को कोर्ट से पूछने की भी ज़रूरत नहीं है*

*ये वक़्त का खेल है*
*कल तक वक़्त अर्नब गोस्वामी का था, जो कहते थे- पूछता है भारत*
*आज हिसाब मांगता है भारत*
*देशद्रोह, ख़ुफ़िया जानकारी लीक करने, उन्हें सार्वजनिक करने और देश विरोधियों की मदद करने जैसे संगीन आरोपों का हिसाब*
*यह तय है कि जितनी कड़ी पूछताछ होगी, उतना ज्यादा सच उगलेंगे अर्नब गोस्वामी*
*देश की कार्यपालिका के सर्वोच्च पद पर बैठे व्यक्ति की गोद में खेलने का दावा करने वाले अर्नब को अब अपना ही दावा सच साबित करना होगा*
*अर्नब जितना मुंह खोलेंगे, सियासतदां उतने ही उलझेंगे, फंसेंगे। चाहे वह मोदी, डोवाल और AS भी क्यों न हों*
*एक पत्रकार के पास बहुत सी ख़ुफ़िया सूचनाएं होती हैं। मीटिंग के मिनिट्स, डायरी और भी तमाम कागज़ात*
*अर्नब को पत्रकार, पक्षकार या पत्तलकार-जो कहें, पर एक बात साफ है। सरकार किसी की नहीं होती*
*अर्नब की जान को इस वक़्त सबसे ज़्यादा ख़तरा है*
*महाराष्ट्र सरकार भी यह बात जानती होंगी*
भांड मीडिया को पता है कि गोबरपट्टी को अंग्रेजी समझ में नहीं आती है ।
दूसरी बात, हिन्दी में छापते तो घर-घर ये पता चल जाता कि सरकार और चैनल्स कैसे जनता को गुमराह करते हैं और चुनावी फायदा उठाते हैं।
*तो अर्नब के लिए फ़िलहाल सबसे महफ़ूज़ जगह जेल है*
पूछता है भारत

एयर लिफ्ट के आदेश का न मिलना, 👈🏻 पुलवामा होना,अर्नब का खुशी मनाना, साहेब का फिल्म शूटिंग और आतंकी DSP को बेल. क्या सब का सब संयोग था ?🤔👈🏻


चैट लीक करने वाले को साधुवाद 🙏 वरना इस दलाल और देशद्रोही पत्रकार की असलियत देश के आगे ना आ पाती... और यह आगे भी समाज में ज़हर घोलता रहता और भाजपा को फ़ायदा पहुंचाता। @Mumbai Police इस गन्दगी को फिर से जेल में डालो!! #AntiNationalBJPArnab
पूछता है भारत
सिर्फ इंडियन एक्सप्रेस और हिन्दू ने ही अर्नब गेट को कवर किया।
बाकी गोबरपट्टी के भांड मीडिया को मानों सांप सूंघ गया है। 😂😂







Anti National Arnab Goswami @ArnabGate @ArnabChat #AntiNationalArnab चैट लीक करने वाले को साधुवाद 🙏 वरना इस दलाल और देशद्रोही पत्रकार की असलियत देश के आगे ना आ पाती... और यह आगे भी समाज में ज़हर घोलता रहता और भाजपा को फ़ायदा पहुंचाता। @Mumbai Police इस गन्दगी को फिर से जेल में डालो!! #AntiNationalBJPArnab भांड मीडिया को पता है कि गोबरपट्टी को अंग्रेजी समझ में नहीं आती है । दूसरी बात, हिन्दी में छापते तो घर-घर ये पता चल जाता कि सरकार और चैनल्स कैसे जनता को गुमराह करते हैं और चुनावी फायदा उठाते हैं।


No comments:

Post a comment