Monday, 7 January 2019

Father Wanted to Make the Son a Doctor

Father Wanted to Make the Son a Doctor

The son was not so brilliant that the NEET cleared.

Therefore, the brokers used to buy MBBS seats.

Land, property, jewelery, all mortgages, paid 35 lakh rupees to brokers, but regretted there was cheating.

What do we do now...?

The boy has to make a doctor as well ... !!

Then somehow the boy's admission was made abroad, the boy did not get there.

Began to fail ..
Lived in depression

Rakshabandhan came home and hanged in the house itself.
All Armaan dashed ... .... collapsed like the castle of sand.

After 20 days, parents and sisters also committed suicide by eating pesticides.

The false ambition of making his son a doctor took the entire family.
Mothers want to fulfill their dreams, their ambitions with their children ...

I saw that some parents put so much unrestrained pressure to make their kids a topper
That the natural development of the child stops only.

Modern school education Evaluation and grading of children such as apples are cultivated in apples garden.
Crores of children from all over the country are being taught the same syllabus ..

For example -

All animals are collected in the forest and all are being tested and seeing the ability to climb the tree, the rank is being removed.

This education system forgets that in this question paper the child of the poor elephant will fail and the monkey will first come.

Now the matter spread across the entire forest that the successful one is the one who climbs to the tree in a hurry.

Everybody's life is in vain.

Therefore, for all those animals, whose children could not jump on the jump immediately, the coaching institute opened for them, where children are taught to climb the tree.

Running elephants, giraffes, lions, and all the fish in the oven, buffalo and sea, along with their children, towards the coaching institute ........

Our bitta will also climb on the tree and illuminate our name.

Elephant has a baby boy .......
So he took him in his arms and said, "There is only one purpose of our life that we will climb on a bitwa tree."

And when the bitwa did not climb on the tree, the elephant managed to swim across the house.

Identify your child.
Know what it is

Elephant or lion, cheetah, woodcut, giraffe camel
Or fish, or swan, peacock or cuckoo?
Do you know that he is an ant?

And if your child is an ant, do not be frustrated.
Ant is the most industrious creature of the earth and can lift one thousand times more weight than its own weight.

So examine the potential of your children and encourage them to move forward in life ... and not discourage the sheep while driving.

SAVE HUMAN BEHAVIOR FIRST ...

Parents

"Because someone is honored with Bharat Ratna even after clarinet playing
🙏🙏🙏🙏










पिता बेटे को डॉक्टर बनाना चाहता था।

बेटा इतना मेधावी नहीं था कि NEET क्लियर कर लेता।

इसलिए दलालों से MBBS की सीट खरीदने का जुगाड़ किया ।

ज़मीन, जायदाद, ज़ेवर सब गिरवी रख के 35 लाख रूपये दलालों को दिए, लेकिन अफसोस वहाँ धोखा हो गया।

अब क्या करें...?

लड़के को तो डॉक्टर बनाना है कैसे भी...!!

फिर किसी तरह विदेश में लड़के का एडमीशन कराया गया, वहाँ लड़का चल नहीं पाया।

फेल होने लगा..
डिप्रेशन में रहने लगा।

रक्षाबंधन पर घर आया और घर में ही फांसी लगा ली।
सारे अरमान धराशायी.... रेत के महल की तरह ढह गए....

20 दिन बाद माँ-बाप और बहन ने भी कीटनाशक खा कर आत्म-हत्या कर ली।

अपने बेटे को डॉक्टर बनाने की झूठी महत्वाकांक्षा ने पूरा परिवार लील लिया।
माँ बाप अपने सपने, अपनी महत्वाकांक्षा अपने बच्चों से पूरी करना चाहते हैं ...

मैंने देखा कि कुछ माँ बाप अपने बच्चों को Topper बनाने के लिए इतना ज़्यादा अनर्गल दबाव डालते हैं
कि बच्चे का स्वाभाविक विकास ही रुक जाता है।

आधुनिक स्कूली शिक्षा बच्चे की Evaluation और Grading ऐसे करती है, जैसे सेब के बाग़ में सेब की खेती की जाती है।
पूरे देश के करोड़ों बच्चों को एक ही Syllabus पढ़ाया जा रहा है ..

For Example -

जंगल में सभी पशुओं को एकत्र कर सबका इम्तिहान लिया जा रहा है और पेड़ पर चढ़ने की क्षमता देख कर Rank निकाली जा रही है।

यह शिक्षा व्यवस्था, ये भूल जाती है कि इस प्रश्नपत्र में तो बेचारा हाथी का बच्चा फेल हो जाएगा और बन्दर First आ जाएगा।

अब पूरे जंगल में ये बात फैल गयी कि कामयाब वो है जो झट से पेड़ पर चढ़ जाए।

बाकी सबका जीवन व्यर्थ है।

इसलिए उन सब जानवरों के, जिनके बच्चे कूद के झटपट पेड़ पर न चढ़ पाए, उनके लिए कोचिंग Institute खुल गए, वहां पर बच्चों को पेड़ पर चढ़ना सिखाया जाता है।

चल पड़े हाथी, जिराफ, शेर और सांड़, भैंसे और समंदर की सब मछलियाँ चल पड़ीं अपने बच्चों के साथ, Coaching institute की ओर ........

हमारा बिटवा भी पेड़ पर चढ़ेगा और हमारा नाम रोशन करेगा।

हाथी के घर लड़का हुआ ....... 
तो उसने उसे गोद में ले के कहा- "हमरी जिन्दगी का एक ही मक़सद है कि हमार बिटवा पेड़ पर चढ़ेगा।"

और जब बिटवा पेड़ पर नहीं चढ़ पाया, तो हाथी ने सपरिवार ख़ुदकुशी कर ली।

अपने बच्चे को पहचानिए।
वो क्या है, ये जानिये।

हाथी है या शेर ,चीता, लकडबग्घा , जिराफ ऊँट है
या मछली , या फिर हंस , मोर या कोयल ?
क्या पता वो चींटी ही हो ?

और यदि चींटी है आपका बच्चा, तो हताश निराश न हों।
चींटी धरती का सबसे परिश्रमी जीव है और अपने खुद के वज़न की तुलना में एक हज़ार गुना ज्यादा वजन उठा सकती है।

इसलिए अपने बच्चों की क्षमता को परखें और जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें.... ना कि भेड़ चाल चलाते हुए उसे हतोत्साहित करें ......

SAVE HUMAN BEHAVIOR FIRST...

Parents love your kids as they are🙏🏻

https://crazy-guru.anxietyattak.com/2019/01/father-wanted-to-make-son-doctor.html

"क्योंकि किसी को शहनाई बजाने पर भी भारत रत्न से नवाज़ा गया हैं

🙏🙏🙏🙏



Join  Google Pay, a payments app by Google. Enter our Code ( 59wc92 
and then make a payment. We'll each get ₹51!

Click here




Enter   Code  59wc92






Pilot's Career GuideStep by Step Learn How to Become an International Airline Pilot

Author Name: Capt Shekhar Gupta 





No comments:

Post a Comment