Wednesday, 9 January 2019

To Parents of all School Going Children

To Parents of all School Going Children  : -

1. Turn off the TV by 10:00 PM. Nothing is more important than your child after 10 o'clock.

2. Take 30-45 minutes to see your child's school diary. Complete her homework

3. Look at their performance in all subjects everyday. Take special care of the topics in which he is not doing well.

4. Their basic education is very important for the future.

5. Give them a habit of sleeping at 10:00 and rising at 6:00 in the morning.

6. If you go to a party / social event and return to the late night with the children, then let the child rest for the next day (do not send the school) If you want the child to attend school the next day at 10:00 pm Bye to home

7. Develop your habit of planting plants and caring for them.

8. At the time of sleeping, listen to the story of Panchatantra, Akbar-Birbal, Tenali Ram etc. to their children.

9. Visit each other in the summer vacation (according to your budget). From this, they learn to live with different people and in different places.

10. Find out the talent of your child and help him to refine it (he can be interested in any subject, music, sports, acting, portraiture, dance etc.). This will make her life enjoyable.

11. Teach them that plastic should not be used (do not use at least hot things in plastic).

12. Try every Sunday that you have something to eat that they like. Ask them to help in this (they will like it).

13. Every child is a scientist from birth. He has many questions. It is possible that we can not answer. But due to lack of knowledge, we should not show anger on the question (try to know the answer and tell them).

14. Tell them about the best way of discipline and living. (Explain right wrong)

15. Decision regarding the best of any school for admission (Do not vote based on corporate school or near percentage, or on the basis of acquaintances, neighbors recommendation or government school or low budget). The best school is that suited for your budget. In the future, you need to spend more on child's education. So you need to save some money today. Apart from this, there are other expenses. So make the plan carefully.

16. Make a habit of reading and learning them yourself.

17. They should not be allowed to use mobile phones, if necessary, to use the mobile in their care.

18. Ask the child to help in his work. (It involves cooking, cleaning, arranging things.)

19. And most importantly, we should also give good education to our children with education so that they can become successful and perfect humans in life.

20. Provide education to the children so that they respect your teachers more than they respect you, because the gurus are growing up from their parents.

21. Connect your children to Sanskrit, because in today's environment, parents wish that there should be rituals in the children, but the Sanskrit language without language is impossible because Sanskrit is the root of the tree, culture is taut and the rites are branches of that tree.
                      Now consider - Being a branch of no heavy can not be imagined, likewise, the desire for Sanskrit sacrament is unreasonable and unimaginable. So, connect the children to Sanskrit.

Based on our experience, we should help them to make their children's lives beautiful and healthy.

If these posts seem meaningful, then share it.

























स्कूल जाने वाले सभी बच्चों के अभिभावकों तक पहुँचायें :-

1. शाम 10:00 बजे तक टीवी बंद कर दें। टीवी पर  10  बजे के बाद आपके बच्चे से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं होता है। 

2. अपने बच्चे की स्कूल डायरी देखने के लिए 30-45 मिनट निकालिए। उसके गृहकार्य पूरे कराइये। 

3. रोज सभी विषयों में उनका प्रदर्शन देखिए। उन विषयों का खास ध्यान रखिए जिसमें वह अच्छा नहीं कर रहा है। 

4. उनकी बुनियादी शिक्षा भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 

5. उन्हें रात को 10:00 बजे तक सोने और सुबह 6:00 बजे उठने की आदत डालिए।

6. अगर आप किसी पार्टी/सामाजिक आयोजन में जाते हैं और बच्चों के साथ देर रात तक लौटते हैं तो अगले दिन बच्चे को आराम करने दीजिए (स्कूल मत भेजिए) अगर आप चाहते हैं कि बच्चा अगले दिन स्कूल जाए तो रात 10:00 बजे तक घर लौट आइए। 

7. अपने बच्चे में पौधे लगाने और उनका ख्याल रखने की आदत का विकास कीजिए।

8. सोने के समय अपने बच्चों को पंचतंत्र, अकबर-बीरबल, तेनाली राम आदि की कहानी सुनाइए। 

9. हर साल गर्मी की छुट्टी में (अपने बजट के अनुसार) कहीं घूमने जाइए। इससे वे अलग लोगों के साथ और अलग जगहों पर रहना सीखते हैं। 

10. अपने बच्चे की प्रतिभा का पता लगाइए और उसे इसको निखारने में सहायता कीजिए (वह किसी विषय, संगीत, खेल, अभिनय, चित्रांकन, नृत्य आदि में दिलचस्पी रख सकता है)। इससे उसका जीवन आनंददायक हो जाएगा। 

11. उसे सिखाइये कि प्लास्टिक का उपयोग नहीं करना चाहिए (कम से कम गर्म चीजें प्लास्टिक में उपयोग न करें)। 

12. हर रविवार कोशिश कीजिए कि खाने की कोई ऐसी चीज बनाएं जो उन्हें पसंद है। उन्हें इसमें अपनी मदद करने के लिए कहिए (उन्हें अच्छा लगेगा)।

13. प्रत्येक बच्चा जन्म से वैज्ञानिक होता है उसके पास ढेरों सवाल होते हैं मुमकिन है हम जवाब न दे पायें पर जानकारी न होने के कारण हमें सवाल पर गुस्सा नहीं दिखाना चाहिए (उत्तर पता करने की कोशिश कीजिए और उन्हें बताइए)।

14. उन्हें अनुशासन और जीने के बेहतर तरीकों के बारे में बताइए। ( सही गलत के बारे में समझाइए )

15. दाखिले के लिए किसी स्कूल के सर्वश्रेष्ठ होने संबंध में निर्णय (कॉरपोरेट स्कूल या पास प्रतिशत ज्यादा होने या परिचितों, पड़ोसियों की सिफारिश या सरकारी स्कूल या कम बजट वाला स्कूल होने के आधार पर मत कीजिए)। सबसे अच्छा स्कूल वह है जो आपके बजट के लिहाज से उपयुक्त हो। भविष्य में आपको बच्चे की शिक्षा पर ज्यादा खर्च करने की जरूरत है। इसलिए आपको आज कुछ पैसे बचाने की जरूरत है। इसके अलावा दूसरे खर्चे तो हैं ही। इसलिए योजना सोच समझकर बनाइए। 

16. उनमें खुद पढ़ने और सीखने की आदत डालिए।  

17.  उन्हें मोबाइल फोन का उपयोग न करने दिया जाए, आवश्यक होने पर अपनी देख-रेख में ही मोबाइल का उपयोग करने दिया जाए।

18. बच्चे को अपने काम में सहायता करने के लिए कहिए। (इसमें खाना बनाना, सफाई, चीजों को व्यवस्थित करना शामिल है।)

19. और सबसे महत्त्वपूर्ण कि हमें अपने बच्चों को शिक्षा के साथ अच्छे संस्कार भी देने चाहिए ताकि वो जीवन में सफल और सही इन्सान बन सके। 

20. बच्चों को यह भी शिक्षा प्रदान कीजिए कि जैसे वे आपका सम्मान करते हैं उससे भी ज्यादा अपने गुरुजनों का आदर सत्कार करें क्योंकि गुरु जी माता-पिता से बढकर होते हैं ।

21. अपने बच्चों को संस्कृत से जोड़े क्यों कि आज के परिवेश में अभिभावक चाहते हैं कि बच्चों में संस्कार हों, पर बिना संस्कृत भाषा के संस्कार असम्भव है क्योंकि संस्कृत वृक्ष की जड है,  संस्कृति तना है और संस्कार उस पेड की शाखाएं हैं ।        
                      अब विचार कीजिए- बिना जड के शाखा  होने की कल्पना भी नहीं की जा सकती है,  वैसे ही बिना संस्कृत के संस्कार की अभिलाषा अनुचित व अकल्पनीय है । अतः बच्चों को संस्कृत से जोड़े ।

हमें अपने अनुभव के आधार पर अपने बच्चों का जीवन सुंदर और स्वस्थ बनाने में उनकी सहायता करना चाहिए। 

यदि ये पोस्ट सार्थक लगे तो शेयर करे।

Payments : 

Join  Google Pay, a payments app by Google. Enter our Code ( 59wc92 
and then make a payment. We'll each get ₹51!

Click here



Enter   Code  59wc92




Pilot's Career GuideStep by Step Learn How to Become an International Airline Pilot

Author Name: Capt Shekhar Gupta  | Format: Paperback | Genre : Technology & Engineering
Delivered in 7-10 business days
 



See this image

Cabin Crew Career Guide, Path to SuccessPaperback – 2018

     

Guaranteed delivery 



No comments:

Post a comment