Thursday, 16 May 2019

The Dhirubhai Ambani Business Empire

एक शानदार भ्रम जिसमें हम रहते हैं
A fantastic Illusion we live in 

When The Dhirubhai Ambani Business Empire was divided between Mukesh and Anil Ambani, Anil started with a net worth of USD  $31,000,000,000. In just over a decade, he has lost 99% of his net worth, hemorrhaging  at the rate of Rs. 58 crores per day for 123 months...

The younger brother defaulted loan & sold company to elder brother to repay loan.

The elder brother took loan from same bank to take over the younger brother's company.

Now the bank got reduced NPA with stronger loan book. Nothing came or gone despite everything got good.


Company Share prices got doubled in a week.
Mukesh allowed Anil to announce bad news and drop the share prices. The public sold off and Mukesh bought the shares (through loan) at dead cheap prices. Now prices are high. He pays off the loan to the bank by transferring it shares or with partners/partial sell in public. He has a company at zero cost.

Now who is the loser ?

Anil Ambani - No ( He got sufficient money to pay his loan )

Mukesh Ambani - No ( He got a good company at throw away price and he is going to mint money out of that )

Bank :  No ( They got their money back with interest )

You, the public is the loser 

That's Ambani Brothers for you

All done legally and  we the lesser mortals  fight about Feku Modi Ji  and Pappu  Baba...


A fantastic illusion we live in ...

Hats off...😀



#JetAirways से बेरोजगार हुए 20 हज़ार कर्मचारी अपने नाम के आगे #चौकीदार लगा लें।

अभी तो आधा भारत लुटा है बर्बाद हुआ है एक बार मोदी और ले आओ 2021 तक इतनी बेरोजगारी हो जाएगी आधा भारत आपस मे ही मर जायेगा और धोका धड़ी के काम और ज्यादा हो जाएगा



http://alfa.clovia.com
http://alfa.clovia.com



















https://crazy-guru.anxietyattak.com/2019/05/the-dhirubhai-ambani-business-empire.html



एक शानदार भ्रम जिसमें हम रहते हैं



जब धीरुभाई अंबानी बिजनेस एम्पायर मुकेश और अनिल अंबानी के बीच बंटा हुआ था, अनिल ने $ 31,000,000,000 की कुल संपत्ति के साथ शुरुआत की। महज एक दशक में, उन्होंने अपनी शुद्ध संपत्ति का 99% खो दिया है, रु। 123 महीने के लिए 58 करोड़ प्रति दिन ...



छोटे भाई ने ऋण चुकाने के लिए बड़े भाई को ऋण और कंपनी बेच दी।



बड़े भाई ने छोटे भाई की कंपनी को संभालने के लिए उसी बैंक से ऋण लिया।



अब बैंक ने मजबूत ऋण पुस्तिका के साथ एनपीए को कम कर दिया। सब कुछ अच्छा होने के बावजूद कुछ नहीं आया या नहीं गया।



एक हफ्ते में कंपनी के शेयर के दाम दोगुने हो गए।

मुकेश ने अनिल को बुरी खबर की घोषणा करने और शेयर की कीमतों को छोड़ने की अनुमति दी। जनता ने बेच दिया और मुकेश ने शेयर (ऋण के माध्यम से) मृत सस्ते दामों पर खरीदे। अब कीमतें अधिक हैं। वह बैंक को शेयरों को हस्तांतरित करके या सार्वजनिक रूप से भागीदारों / आंशिक बिक्री के साथ ऋण का भुगतान करता है। उसकी शून्य लागत पर कंपनी है।



अब हारने वाला कौन है?



अनिल अंबानी - नहीं (उन्हें अपने ऋण का भुगतान करने के लिए पर्याप्त धन मिला)



मुकेश अंबानी - नहीं (उन्हें फेंकने की कीमत पर एक अच्छी कंपनी मिली और वह उस पैसे का टकसाल करने जा रहे हैं)



बैंक: नहीं (उन्हें अपने पैसे ब्याज सहित वापस मिल गए)



आप, जनता हारी हुई है



आपके लिए यही अंबानी ब्रदर्स हैं



सभी कानूनी रूप से किए गए

तथा

हम फेकू मोदी जी और पप्पू बाबा के बारे में कम नश्वर लड़ाई ...





एक शानदार भ्रम हम में रहते हैं ...




सलाम ... 😀


http://alfa.clovia.com
http://alfa.clovia.com

असली मुद्दो से नही हटूंगा..भारत मे बहुत बड़ा कैश संकट, ऊंची व्याज दर का संकट पैदा हो चुका है..उद्योग बंद होने के कारण सहजतम रूप से समझिये..

● MSME या छोटे - मझलो उद्योगो की "लाइफलाइन" है NBFC या नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनीज..ये MSME को लोन देते है..

● NBFC के 6-8 लाख करोड़ ₹ के लोन नोटबंदी और GST के कारण NPA हो गए..ये बैंकिंग के 18 लाख करोड़ से अलग है..

● चूंकि बैंको के पास पैसे नही है तो NBFC के पास भी पैसे नही है..NBFC के पास पैसे नही तो MSME खत्म..नौकरी खत्म!!

● NBFC "शार्ट टर्म" लोन ले कर "लांग टर्म" लोन दे रही है..इसके कारण एसेट से ज्यादा देनदारी है.."लोन चेन" का एक हिस्सा अगर टूटा तो सब बर्बाद..

● अब NBFC बाजार से 9.50% से 12% तक पैसा उठा रहे है..इस व्याज पर पैसे ले कर NBFC भी ऊंची दरो पर लोन देने को मजबूर है..

● IL&FS का 1.20 लाख करोड़ ₹ डूब गया.. "खा गया" ये पैसे..यानी सिस्टम से ये पैसे गायब..NPA घोषित हो गया..
● 70% MSME बंद है..बाकी जिन्होंने NBFC से ऊंची व्याज दर पर पैसे लिए वो लोन डिफ़ॉल्ट हो गया..NPA !!


Apps 

 

No comments:

Post a comment