Sunday, 26 April 2020

Where did you bring this country

पेंशनरों का भत्ता झटकने की नौबत क्यों? एक महीने में सरकार की आर्थिक हालत खराब कैसे हो गई, भाई?
https://bit.ly/354CWYd Why are pensioners' allowance lost? 
How did the government's financial condition deteriorate in a month ?

What have you been doing for six years that month's prisoner brought beggar?

You just took Rs 1 lakh 76 thousand crore from the Reserve Bank.

You have earned an estimated Rs 20 lakh crore by taxing the petrol prices which are constantly getting cheaper.

Your collection from GST has also increased according to you.

You are also saying that there has been an unprecedented increase in income tax.

It is just the beginning of the financial year. You have money left over for all items.

You have also taken CSR money from all companies.

The MPs also forfeited 2-year funds.

From the President to the MP, he also took 30 per cent of the salary.

Tata and other companies have also donated thousands of crores.

But after getting only 20 thousand corona patients, your condition became such that now the pension of workers and pensioners was also affected.


You also had to take away what they had entitled to dearness relief to the elderly? Was this the economic condition of which 5 trillion were driving? Becoming the grandfather of the whole world? If Corona really caught the force like Italy and America, or if war broke out from any country, what would it do? Iraq, Iran, Korea and many countries were not so helpless even under stringent international sanctions. 

Where did you bring this country?



आप छह साल से क्या कर रहे हैं कि महीने की बन्दी ने भिखमंगी ला दी?
आपने अभी-अभी रिजर्व बैंक से 1 लाख 76 हज़ार करोड़ रु लिए थे। 
लगातार सस्ते होते पेट्रोल पर टैक्स ठोंक कर आपने एक अनुमान के मुताबिक 20 लाख करोड़ रु कमाए हैं।
GST से भी आपका कलेक्शन आप ही के अनुसार बढ़ा है।  
इनकम टैक्स में भी आप कह रहे हैं कि अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। 
अभी वित्त वर्ष की शुरुआत ही है। सारे मदों के पैसे आपके पास बचे ही हैं। 

सभी कम्पनियों के CSR के पैसे भीआपने ही ले लिए हैं। 

सांसदों के 2 साल के फंड भी जब्त ही कर लिए। 

राष्ट्रपति से लेकर सांसद तक के वेतन से पैसे भी 30 फीसदी तक ले लिए। 
टाटा और अन्य कम्पनियों ने भी हजारों करोड़ का चंदा दे ही दिया।
पर मात्र 20 हजार कोरोना मरीज मिलने पर आपकी हालत ये हो गयी कि अब कर्मियों और पेंशनरों की पेंशन पर भी आफत ला दी?
बुजुर्गों को महँगाई राहत का जो उनका हक था, उसे भी छीनना पड़ गया आपको? क्या इसी आर्थिक हालत के बल पर 5 ट्रिलियन का जोश मार रहे थे? पूरी दुनिया के दादा बन रहे थे? कहीं सही में कोरोना ने वाकई इटली और अमेरिका जैसा जोर पकड़ लिया, या किसी देश से युद्ध छिड़ जाए तो क्या कीजियेगा?  इराक, ईरान, कोरिया और अनेक देश कड़े अंतराष्ट्रीय प्रतिबंधों के बाद भी इतने लाचार न हुए थे। ये कहाँ ला दिया आपने देश को, फेंकू जूमलेबाज ने?



No comments:

Post a comment