Thursday, 10 September 2020

Take 1 minute to Read this Story and Your Mind will be Shaken

कहानी पढने में केवल 1 मिनिट लगेगा और आपका दिमाग हिल  जायेगा
         खुशी
दो लोग गंभीर तरीके से  बीमार थे और दोनों को एक ही रूम रखा था .
Take 1 minute to Read this Story and Your Mind will be Shaken

Two people were seriously ill and both were kept in the same room.
One was ordered to sit near the window every 2 hours of lung health.
The room had only one window and its bed was near that window

While the other patient had to stay on the bed.

Both of them used to talk for hours for their wives, children and job, missing friends
Used to talk about

Every day, when that first patient sits near the window, then the other patient is told about the outdoors.
Spends time
For 2 hours, as if for that other patient, he would forget the hospital and serve the whole world.

"Outside the window is a beautiful garden and in the lake.
Play ponds, ducks and geese.
On the other hand, children are playing in making paper naves.
Lovers are walking far and wide keeping hands in hand.
Between flowers of different colors,
The sky is rated in picturesque scenery ...
Birds flying in the sky with their wings

"The other man closes his eyes and imagines them all.

Days passed while doing this

One day when the nurse came to bathe the first patient, she saw that on the bed
The nurse is dead lifeless

The nurse called the hospitalists and took her dead body out of the room.

Now the window bed was empty ... and the other patient went to the lonely post

A few days later another patient asked the nurse to take the window bed
The nurse happily gave another patient a window bed.

Another patient was happy to find a window bed
Slowly, taking a little bit of trouble, tried to sit near the window.
Like you barely sat and tried to see the beauty of the window outside

As soon as he pushed in the window, he came out of his mouth.

There was only one wall outside the window.
He did not understand anything.

He asked the nurse - "The nurse was here outside the window. Where did this wall come from?"

The nurse said: "The man was blind and could not even see the wall,
He just wanted to encourage you! "

Perception "

This is the greatest happiness to make others happy.
No matter how your situation is.

Grief is halved and happiness is doubled.
Happiness is something that is not bought with money just by making someone happy Happiness can be felt




एक को फेफड़े की तंदरुस्ती के रोज़ 2 घंटे खिड़की के पास बेठने का आदेश मिला था .
रूम में केवल एक ही खिड़की थी और उसका पलंग उस खिड़की के पास था

जबकि दुसरे मरीज़ को पलंग पर ही पड़े रहना पड़ता था .

वो दोनों घंटो तक बाते करते अपने बीवी , बच्चो और नोकरी , गुमने फिरने वगेर के
बारे में बाते करते थे .

हर रोज जब वो पहला मरीज़ खिड़की के पास बेठता तो दुसरे मरीज़ को बहार का माहोल बता कर
समय बिताता

2 घंटो के लिए मानो उस दुसरे मरीज़ के लिए वो हॉस्पिटल भुलाकर पूरी दुनिया की सेर करवाता .

" खिड़की के बहार एक सुंदर बगीचा है और झील में .
तालाबों, बतख और कुछ कलहंस खेलते हैं.
दूसरी ओर, बच्चों कागज नावे बना कर में खेल रहे हैं.
प्रेमी जोड़े हाथ में हाथ रख कर दूर तक चल रहे है .
विभिन्न रंगों के फूलों के बीच,
आकाश सुरम्य दृश्यों में मूल्यांकन कर रहा है ...
आकाश में पंछी अपने पंखो के साथ उड़ान भर रहे है

" दूसरा आदमी अपनी आँखें बंद कर देता है और इन सब की कल्पना करता था .

ऐसे करते करते दिन महीनो में बीत गये

एक दिन जब नर्स उस पहले मरीज़ को नहलाने आई तोह देखा की वो पलंग पर
निर्जीव पड़ा है नर्स को बहुत दुःख हुआ

नर्स ने अस्पताल वालो को को बुलाया और उसका निर्जीव शारीर को रूम से बहार ले गए

अब खिड़की वाला पलंग खाली हो गया ... और दूसरा मरीज़ अकेला पद गया

कुछ दिनों बाद दुसरे मरीज़ ने नर्स से खिड़की वाला पलंग लेने की बात कही
नर्स ने ख़ुशी से दुसरे मरीज़ को खिड़की वाला पलंग दे दिया .

खिड़की वाला पलंग पाकर दूसरा मरीज़ खुश हुआ
धीरे धीरे थोडा सा कष्ट उठाकर खिड़की के पास बेठने की कोशिश की
जेसे तेसे मुश्किल से बेठा और खिड़की के बहार की सुन्दरता देखने की कोशिश की

जेसे ही उसने खिड़की में झाका तो उसके मुह से निकल पड़ा अरे ये क्या ?

खिड़की के बहार सिर्फ एक दीवार थी .
उसके कुछ समझ में नहीं आया .

उसने नर्स से पूछा - " नर्स यहाँ खिड़की के बहार बगीचा था ये दीवार कहा से आई?

नर्स ने कहा: " वह आदमी अंधा था और यहां तक कि दीवार नहीं देख सकता ,
वह तो बस आप को प्रोत्साहित करना चाहता था ! "

बोध "

दुसरो को खुश करना यही सबसे बड़ा सुख है .
भले ही अपनी परिस्थिति कैसी ही क्यों ना हो.

दुःख बाटने से आधा होता है और सुख बाटने से दुगुना होता है
सुख एक ऐसी चीज़ है जिसको पैसो से नहीं खरीद बस किसी को ख़ुशी देकर
सुख को अनुभव किया जा सकता है👆👆
🙏🏻🌷🙏🏻

No comments:

Post a comment