Wednesday, 17 April 2019

Be a Smart Toddler’s Mom

एक स्मार्ट टॉडलर की माँ बनें  
By  Preeti Tanwar

Be a Smart Toddler’s Mom
Prosperity comes home with the arrival of a little bundle of joy. Rumbling of their squeals contributes to a cheerful ambience. It’s a blessing for the whole family but a special privilege to the mother. A new phase of life where a new mother naturally tends to offer enormous unconditional love and care to her bosom baby. She urges naturally to do the best for baby’s comfort in spite of all the restlessness and sleepless nights.  Mother is the best creature chosen by God to look after the baby and hence blessed with utmost intelligence and caring attitude. She protects her baby from the environment in the growing stage of the baby as she can’t see him/her in trouble.
Motherhood – a very special phase of woman’s life if managed tactically can be the most enjoyable and comfortable journey for both kid and the mother. Things should be handled in a smart way so that it doesn’t  affect mother’s health.  She should understand that baby’s care is now a part of life and  should try to inculcate this in day to day lifestyle. If from the very beginning stage, baby’s tasks are accommodated in a smart manner, then mother will get relief from various anxiety, sleeplessness and body discomforts which she usually ignores. That’s how she can be healthy and in right frame of mind which leads to happiness. And definitely, a smart and happy mom will facilitate better upbringing of the child. Ultimately, that  is what the goal is. Let’s discuss some of the tips which might be helpful to you.
1.       Sometimes you before baby  : Do you ignore your hunger and feed your baby first out of love?  What if you drink a cup of milk in a minute before feeding your baby? Baby’s feed will take time. Plan your meal timings ahead of baby’s feed time. Have your breakfast on priority in the early morning before your baby gets up. Have handy healthy good nutritious snacks for short hunger like roasted peanuts, fox seeds, handmade ladoos, dry fruits, fresh fruits or anything homemade you like as per your taste. Don’t fill your stomach with unhealthy packed processed food.  Don’t eat your kid’s meal  leftover as that crushed curry form meal is appropriate for kids only and is  not tasty for you. Moreover, eating  leftover food in between kills your meal time appetite. It’s better to feed your pets or street dogs with this leftover.  Fuelling your body at the right time with right food is required not only to energize you but it is also  required to recover from post pregnancy disorders. Lactating mothers needs to take special care of their meal. Lactating mothers should  drink  lot of water too as their body is forming milk inside for the baby. 
2.       Who said you can’t exercise with the baby : workout with your kids. Take  some “running-catching game break” from your hectic schedule. It’ll be refreshing for you along with a nice fun for your kid. Do practice yoga in front of your kids to create their interest in it from this age itself. (Note- Immediately post delivery please wait for some time to do exercise and take advice from your doctor before starting).
Definitely you can do
3.       Take help from the available resources : Don’t feel guilty in accepting the help offered from friends, family and relatives. This way kid will learn a lot from different kind of people. But if you don’t have helping hands, do take the help of maid as much as you can. Pay her little extra for the sake of your comfort.




4.       Right eating etiquettes: 

You must have heard these complains by mother  - My baby hardly eats much.  I have to run after him/her every time to feed. Don’t do force feeding by running after them. That’s how kids get habitual of it. From the very beginning stage inculcate the habit of sitting on a chair and eating properly. Kids usually want to eat on their own and to avoid cleaning the entire mess mother starts spoon feeding them. Let them do the mess under your guidance. Do hard work in teaching them right technique of eating food on their own rather than running behind them to feed.  Make them wear a homemade apron and let them enjoy their food in their own way.



5.       Right sleeping etiquettes:  Although it’s quite difficult to carve kid’s sleeping cycle according to you but at least try. Kid’s sleeping cycle should be close to the nature i.e Early to bed and early to rise.  Try dim lights in the early night itself to let them realize it’s time to sleep. Feed them early in the night to make them drowsy. You too should follow the same routine. Going early to bed will help you wake up early in the morning. Getting up early in the morning will give you a lot of time in completing your important tasks. Don’t start draining energy in the morning itself. Find some time for little stretching exercises and meditation. Start prioritizing your tasks from the morning itself.

6.       Share your happiness and sorrows with your kid: Outsource your secondary tasks to your maid and cherish your motherhood. Spend memorable time with your kid. Cuddle them. Feel them. Smell them. Share your problems with them. Yes, kids do understand even if they are so small. Let me share one of my incidence. One night I was over tired with my hectic work schedule. I conveyed my tiredness to my 2 year old baby.  To my surprise she said mamma you have some milk. You will feel better.

7.       Treat kids as an individual: Start giving correct guidelines to your kids from the very beginning stage like you give to an adult. Even from the age when they can’t even speak. Generally mother take them for granted being kid and answer their curious expressions and questions just like that. Answer to their questions like you answer to an adult. Try it once and you will notice a natural intelligence in your kid day by day.  Give them freedom to choose for little things. Don’t always instruct them to do the things as per you. That’s how they will learn to make their own decisions of right or wrong. 

8.       Allow kids to experiment:  Kids are curious about everything at this age. In spite of stopping them for the things not right for them, let them do the practical under your guidance. That’s how they will learn about the consequences and be alert from the next time. Take an example. Your kid always runs to touch the burning candle. Let him/her touch it slightly under your guidance to feel the burn. From next time onwards they themselves  will stay away. You need to calm their thirst.

9.       Don’t lose your calm and teach them with love: Mother is the best teacher for every kid. Start inculcating the good habits from the very beginning. Good habits learnt at this age will remain forever in their behavior.  Don’t shout on them if they don’t listen to you. If you show them  patience kids will also learn the same. Teach them right things with love and affection. Applause your kids if they follow good habits by saying thank you or clap for them or show them affection by kiss or hug.

10.   Teach the kids to be patient: Respond them nicely if they call you or need you in between your work. But make them understand politely that mom can also be busy in something important. Ask them to wait for some time. Kids are generally attention seeker. But, this way they will learn the mother’s importance and will not take her for granted.

11.    Encourage the kids to do little tasks on their own: 


Let them take self initiative of doing little –little things on their own. E.g. If your kid want to wear his/her shoe on their own, you don’t help them. Let them put their own efforts. These small incidences are so much fun and learning for them.

12.   Keep them away from gadgets: Research says that radiations emitted from gadgets like mobile phones, laptops and wifi or internet devices are very harmful for initial stage mind development of toddlers. As kids enact from us only so first initiative should be limiting your own usage of gadgets. Don’t give them mobile in their hand for  learning (rhymes, cartoons etc.) or as a fascinating agent to make them eat food or drink milk. You can download kid rhymes and play audio only for limited period of time and that too far from them. You can purchase some catchy kids book or charts, fun activity based games like building blocks, mud activity or coloring themes to engage them.  






BigBasket.com

Use PhonePe for instant bank transfers & more! Get a scratch card up to 
₹1000 on your first money transfer on 
#PhonePe. 
Use the link -


Join  Google Pay, a payments app by Google.
Enter our Code :   59wc92
and then Get a payment.
Click here
https://g.co/payinvite/59wc92
Enter   Code  59wc92





https://www.amazon.in/s?i=stripbooks&rh=p_27%3ACapt+Shekhar+Gupta&ref=dp_byline_sr_book_1


Pilot's Career Guide
by Capt Shekhar Gupta and Niriha Khajanchi | 1 January 2017
4.0 out of 5 stars5
Cabin Crew Career Guide, Path to Success
by Pragati Srivastava and Capt. Shekhar Gupta | 1 January 2018
5.0 out of 5 stars3
All Best Career Guide
by Capt Shekhar Gupta and Shina Kalra | 1 January 2019
5.0 out of 5 stars1


एक स्मार्ट टॉडलर की माँ बनें
समृद्धि खुशी के एक छोटे बंडल के आगमन के साथ घर आती है। उनके फुहारों का रंबल एक हंसमुख माहौल में योगदान देता है। यह पूरे परिवार के लिए एक आशीर्वाद है, लेकिन मां के लिए एक विशेष विशेषाधिकार है। जीवन का एक नया चरण जहां एक नई माँ स्वाभाविक रूप से अपने बेशुमार बच्चे को भरपूर बेशुमार प्यार और देखभाल की पेशकश करती है। वह स्वाभाविक रूप से सभी बेचैनी और रातों की नींद के बावजूद बच्चे के आराम के लिए सबसे अच्छा करने का आग्रह करती है। माँ, बच्चे की देखभाल करने के लिए ईश्वर द्वारा चुना गया सबसे अच्छा प्राणी है और इसलिए अत्यंत बुद्धिमत्ता और देखभाल करने वाली प्रवृत्ति के साथ धन्य है। वह अपने बच्चे को बच्चे के बढ़ते चरण में पर्यावरण से बचाती है क्योंकि वह उसे मुसीबत में नहीं देख सकती है।

मातृत्व - महिला के जीवन का एक बहुत ही विशेष चरण है अगर प्रबंधन में बच्चे और माँ दोनों के लिए सबसे सुखद और आरामदायक यात्रा हो सकती है। चीजों को एक स्मार्ट तरीके से नियंत्रित किया जाना चाहिए ताकि यह माँ के स्वास्थ्य को प्रभावित न करे। उसे समझना चाहिए कि शिशु की देखभाल अब जीवन का एक हिस्सा है और इसे दिन-प्रतिदिन की जीवन शैली में शामिल करने का प्रयास करना चाहिए। यदि बहुत शुरुआती चरण से, बच्चे के कार्यों को एक स्मार्ट तरीके से समायोजित किया जाता है, तो माँ को विभिन्न चिंता, नींद और शरीर की असुविधा से राहत मिलेगी, जिसे वह आमतौर पर अनदेखा करती है। यह कैसे स्वस्थ हो सकता है और मन के सही फ्रेम में जो खुशी की ओर ले जाता है। और निश्चित रूप से, एक स्मार्ट और खुश माँ बच्चे की बेहतर परवरिश की सुविधा प्रदान करेगी। अंततः, यही लक्ष्य है। आइए कुछ ऐसे सुझावों पर चर्चा करें जो आपके लिए उपयोगी हो सकते हैं।

1. कभी-कभी आप बच्चे से पहले: क्या आप अपनी भूख को अनदेखा करते हैं और अपने बच्चे को पहले प्यार से खिलाते हैं? यदि आप अपने बच्चे को दूध पिलाने से पहले एक मिनट में एक कप दूध पीते हैं तो क्या होगा? बच्चे के भोजन में समय लगेगा। बच्चे के भोजन के समय से पहले अपने भोजन की समय-सारणी की योजना बनाएं। अपने बच्चे को उठने से पहले सुबह का नाश्ता प्राथमिकता पर दें। भुनी हुई मूंगफली, लोमड़ी के बीज, हाथ से बने लड्डू, ड्राई फ्रूट्स, ताजे फल या अपनी पसंद के अनुसार घर की बनी कोई भी चीज़ कम भूख के लिए स्वस्थ अच्छे पौष्टिक स्नैक्स हैं। अस्वास्थ्यकर पैक्ड प्रोसेस्ड फूड से अपना पेट न भरें। अपने बच्चे के भोजन के बचे हुए हिस्से को न खाएं क्योंकि कुचला हुआ करी भोजन केवल बच्चों के लिए उपयुक्त है और आपके लिए स्वादिष्ट नहीं है। इसके अलावा, बचे हुए भोजन को खाने के बीच में खाने से आपकी भूख बढ़ती है। इस बचे हुए जानवर के साथ अपने पालतू जानवरों या सड़क के कुत्तों को खिलाना बेहतर है। अपने शरीर को सही भोजन के साथ सही समय पर ईंधन देना न केवल आपको ऊर्जावान बनाने के लिए आवश्यक है बल्कि गर्भावस्था के बाद के विकारों से उबरने के लिए भी आवश्यक है। स्तनपान कराने वाली माताओं को अपने भोजन का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। स्तनपान कराने वाली माताओं को बहुत सारा पानी पीना चाहिए क्योंकि उनका शरीर बच्चे के लिए दूध बना रहा है।

2. किसने कहा कि आप बच्चे के साथ व्यायाम नहीं कर सकते हैं: निश्चित रूप से आप अपने बच्चों के साथ कसरत कर सकते हैं। अपने व्यस्त कार्यक्रम से कुछ "रनिंग-कैचिंग गेम ब्रेक" लें। यह आपके बच्चे के लिए एक अच्छी मस्ती के साथ-साथ आपके लिए ताज़ा होगा। अपने बच्चों के सामने इस उम्र से ही अपनी रुचि बनाने के लिए योग का अभ्यास करें। 
(नोट- प्रसव के तुरंत बाद कृपया व्यायाम करने से पहले कुछ समय तक प्रतीक्षा करें और शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें)।


 



3. उपलब्ध संसाधनों से मदद लें: मित्रों, परिवार और रिश्तेदारों से दी जाने वाली मदद को स्वीकार करने में दोषी महसूस न करें। इस तरह से बच्चे विभिन्न प्रकार के लोगों से बहुत कुछ सीखेंगे। लेकिन अगर आपकी मदद के लिए हाथ नहीं है, तो जितना हो सके नौकरानी की मदद लें। अपने आराम के लिए उसे थोड़ा अतिरिक्त भुगतान करें।

4. सही खाने के शिष्टाचार: 
आपने ये शिकायतें माँ द्वारा सुनी होंगी - मेरा बच्चा शायद ही ज्यादा खाता हो। मुझे खाना खिलाने के लिए हर बार उसके पीछे दौड़ना पड़ता है। उनके बाद चलने से बल खिला नहीं है। कि कैसे बच्चों को इसकी आदत है। बहुत शुरुआती चरण से एक कुर्सी पर बैठने और ठीक से खाने की आदत को उत्तेजित करें। बच्चे आमतौर पर अपने दम पर खाना चाहते हैं और पूरी गंदगी को साफ करने से बचने के लिए माँ उन्हें खिलाना शुरू कर देती हैं। उन्हें अपने मार्गदर्शन में गड़बड़ करने दें। उन्हें खिलाने के लिए उनके पीछे भागने के बजाय खुद खाने की सही तकनीक सिखाने में कड़ी मेहनत करें। उन्हें घर का बना एप्रन पहनाएं और उन्हें अपने तरीके से भोजन का आनंद लेने दें।



5. राइट स्लीपिंग एटिकेट्स: हालाँकि आपके अनुसार बच्चे के स्लीपिंग साइकल को बनाना काफी मुश्किल है लेकिन कम से कम कोशिश करें। बच्चे के सोने का चक्र प्रकृति के करीब होना चाहिए यानी बिस्तर पर जल्दी उठना और जल्दी उठना। रात के शुरुआती समय में ही रोशनी का प्रयास करें ताकि उन्हें सोने के समय का एहसास हो सके। रात में जल्दी खाना खिलाकर उन्हें सुला दें। आपको भी उसी दिनचर्या का पालन करना चाहिए। बिस्तर पर जल्दी जाने से आपको सुबह जल्दी उठने में मदद मिलेगी। सुबह जल्दी उठने से आपको अपने महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करने में बहुत समय मिलेगा। सुबह के समय ऊर्जा की निकासी शुरू न करें। थोड़ा स्ट्रेचिंग व्यायाम और ध्यान के लिए कुछ समय खोजें। सुबह से ही अपने कामों को प्राथमिकता देना शुरू कर दें।

6. अपने बच्चे के साथ अपनी खुशी और दुख साझा करें: अपने माध्यमिक कार्यों को अपनी नौकरानी को आउटसोर्स करें और अपनी मातृत्व को संजोएं। अपने बच्चे के साथ यादगार समय बिताएं। उन्हें पुचकारो। उन्हें महसूस करो। उन्हें सूँघो। अपनी समस्याओं को उनके साथ साझा करें। हां, बच्चे समझते हैं कि भले ही वे कितने ही छोटे क्यों न हों। मुझे अपनी एक घटना साझा करने दें। एक रात मैं अपने व्यस्त काम के समय के साथ थक गया था। मैंने अपने 2 साल के बच्चे को अपनी थकान से अवगत कराया। मेरे आश्चर्य करने के लिए उसने कहा मम्मा आपके पास कुछ दूध है। तुम अच्छा महसूस करोगे।

7. बच्चों को एक व्यक्ति के रूप में समझें: अपने बच्चों को बहुत शुरुआती चरण से ही सही दिशा-निर्देश देना शुरू करें जैसे आप एक वयस्क को देते हैं। यहां तक कि उम्र से जब वे बोल भी नहीं सकते। आम तौर पर माँ उन्हें बच्चे के लिए दी जाती हैं और उनके जिज्ञासु भावों और सवालों का जवाब उसी तरह देती हैं। उनके सवालों के जवाब जैसे कि आप एक वयस्क को जवाब देते हैं। इसे एक बार आज़माएं और आप दिन-प्रतिदिन अपने बच्चे में एक स्वाभाविक बुद्धि को देखेंगे। उन्हें छोटी चीजों के लिए चुनने की आजादी दें। हमेशा उन्हें अपने अनुसार चीजें करने का निर्देश न दें। यह सही या गलत के अपने निर्णय लेना सीखेगा।

8. बच्चों को प्रयोग करने की अनुमति दें: बच्चे इस उम्र में हर चीज को लेकर उत्सुक रहते हैं। उन चीजों के लिए उन्हें रोकने के बावजूद जो उनके लिए सही नहीं हैं, उन्हें अपने मार्गदर्शन में व्यावहारिक करने दें। कि वे परिणामों के बारे में कैसे सीखेंगे और अगली बार से सतर्क रहेंगे। एक उदाहरण लीजिए। आपका बच्चा हमेशा जलती हुई मोमबत्ती को छूने के लिए दौड़ता है। जले हुए महसूस करने के लिए उसे अपने मार्गदर्शन में थोड़ा स्पर्श करें। अगली बार से वे स्वयं दूर रहेंगे। आपको उनकी प्यास को शांत करने की आवश्यकता है।

9. अपना शांत मत खोओ और उन्हें प्यार से सिखाओ: हर बच्चे के लिए माँ सबसे अच्छी शिक्षक होती है। शुरुआत से ही अच्छी आदतों को अपनाना शुरू करें। इस उम्र में सीखी गई अच्छी आदतें उनके व्यवहार में हमेशा बनी रहेंगी। यदि वे आपकी बात नहीं मानते हैं तो उन पर चिल्लाएं नहीं। यदि आप उन्हें धैर्य दिखाते हैं तो बच्चे भी वही सीखेंगे। उन्हें प्यार और स्नेह से सही बातें सिखाएं। अपने बच्चों की सराहना करें यदि वे आपको धन्यवाद कहकर या उनके लिए ताली बजाकर अच्छी आदतों का पालन करते हैं या उन्हें चुंबन या गले लगाकर प्यार जताते हैं।

10. बच्चों को धैर्य रखना सिखाएं: यदि वे आपको कॉल करते हैं या आपके काम के बीच में आपकी ज़रूरत होती है, तो उन्हें अच्छी तरह से जवाब दें। लेकिन उन्हें विनम्रता से समझें कि माँ भी किसी महत्वपूर्ण चीज़ में व्यस्त हो सकती है। उनसे कुछ समय इंतजार करने को कहें। बच्चे आमतौर पर ध्यान देने वाले होते हैं। लेकिन, इस तरह वे माँ के महत्व को जानेंगे और उसे स्वीकार नहीं करेंगे।

11. बच्चों को खुद से छोटे-छोटे काम करने के लिए प्रोत्साहित करें: 

उन्हें खुद-ब-खुद छोटी-छोटी चीज़ें करने की पहल करें। जैसे यदि आपका बच्चा अपनी मर्जी से अपना जूता पहनना चाहता है, तो आप उनकी मदद नहीं करेंगे। उन्हें अपना प्रयास करने दें। ये छोटी सी घटनाएं उनके लिए बहुत मजेदार और सीखने वाली हैं।





12. उन्हें गैजेट्स से दूर रखें: रिसर्च कहती है कि टॉडलर्स के शुरुआती स्टेज माइंड डेवलपमेंट के लिए मोबाइल फोन, लैपटॉप और वाईफाई या इंटरनेट डिवाइस जैसे गैजेट्स से निकलने वाले रेडिएशन बहुत हानिकारक होते हैं। जैसे ही बच्चे हमसे जुड़ते हैं, तो पहले पहल आपको गैजेट्स के अपने उपयोग को सीमित करना चाहिए। सीखने (तुकबंदी, कार्टून आदि) के लिए या उन्हें खाना खाने या दूध पीने के लिए आकर्षक एजेंट के रूप में उनके हाथ में मोबाइल न दें। आप बच्चे के गाने डाउनलोड कर सकते हैं और केवल सीमित समय के लिए ऑडियो चला सकते हैं और वह भी उनसे बहुत दूर। आप कुछ आकर्षक किड्स बुक या चार्ट खरीद सकते हैं, मज़ेदार गतिविधि आधारित गेम जैसे बिल्डिंग ब्लॉक, कीचड़ गतिविधि या रंग थीम को संलग्न कर सकते हैं।







BigBasket.com

Use PhonePe for instant bank transfers & more! Get a scratch card up to 
₹1000 on your first money transfer on 
#PhonePe. 
Use the link -


Join  Google Pay, a payments app by Google.
Enter our Code :   59wc92
and then Get a payment.
Click here
https://g.co/payinvite/59wc92
Enter   Code  59wc92






https://www.amazon.in/s?i=stripbooks&rh=p_27%3ACapt+Shekhar+Gupta&ref=dp_byline_sr_book_1


Pilot's Career Guide
by Capt Shekhar Gupta and Niriha Khajanchi | 1 January 2017
4.0 out of 5 stars5
Cabin Crew Career Guide, Path to Success
by Pragati Srivastava and Capt. Shekhar Gupta | 1 January 2018
5.0 out of 5 stars3
All Best Career Guide
by Capt Shekhar Gupta and Shina Kalra | 1 January 2019
5.0 out of 5 stars1

No comments:

Post a Comment